आगरा, अम्बुज उपाध्याय। व्यावसायिक एलपीजी सिलिंडर प्रयोग करने वालों के लिए अच्छी खबर है। अब सिलिंडर 15 फीसद अधिक ताप देगा और उसके लिए मात्र 22.50 रुपये अधिक धनराशि चुकानी होगी। फिलहाल इंडेन ने इसे बाजार में उतार दिया है और दो हजार सिलिंडर प्रति माह की खपत भी हो रही है। दैनिक जागरण ने डेढ़ वर्ष पहले इसकी जानकारी दी थी। ये जल्द ही बाजार में आना था, लेकिन कोरोना काल के कारण उप्र में आने में कुछ देरी हुई।

इंडियन आयल कारपोरेशन ने व्यावसायिक एलपीजी की कैलोरीफिक वैल्यू में बढ़ोतरी कर उच्च ताप का एलपीजी सिलिंडर एक्स्ट्रा तेज के नाम से तैयार किया है। कैलोरीफिक वैल्यू में इजाफे के लिए एडिटिव मिलाए गए हैं, जिससे उष्मा बढ़ गई। पायटल प्रोजेक्ट डेढ़ वर्ष पहले कर्नाटक में शुरू हुआ था, इंडियन आयल की रिसर्च टीम ने लंबे समय कार्य करने के बाद इसे अमली जामा पहनाया था। फिलहाल 19 किलोग्राम व्यावसायिक सिलिंडर में इसकी उपलब्धता है, लेकिन जल्द ही 47.5 किलोग्राम वाले सिलिंडर में भी एक्स्ट्रा तेज की उपलब्धता होगी। 19 किलोग्राम साधारण सिलिंडर का मूल्य 1738 रुपये है, जबकि एक्स्ट्रा तेज के दाम 1760.50 रुपये प्रति सिलिंडर है। तीनों एजेंसियों में से फिलहाल इंडेन में इसकी उपलब्धता है, जिसका डेमोस्ट्रेशन भी दिया जा रहा है। एक्स्ट्रा तेज से 15 फीसद गैस की बचत हो रही है। जिले में लगभग इंडेन के 30 से 32 हजार सिलिंडर की प्रतिमाह खपत होती है, जिसमें से दो हजार एक्स्ट्रा तेज की मांग है।

सिमुलेटर लगाकर उपभोक्ताओं को दे रहे डैमोस्ट्रेशन

इंडेन के वितरक सिमुलेटर लगाकर उपभोक्ताओं को उसी सिलिंडर में अधिक ताप मिलने का डैमोस्ट्रेशन दे रहे हैं। वे उपभोक्ताओं को ताप अधिक होना प्रदर्शित करते हैं।

एक्स्ट्रा तेज व्यावसायिक सिलिंडर इंडेन द्वारा उपलब्ध कराया जा रहा है। व्यावसायिक सिलिंडर प्रयोग करने वालों को इसका महत्व समझाया जा रहा है। इसकी उष्मा 15 फीसद अधिक है।

विपुल पुरोहित, एजेंसी संचालक

ब्यूटेन की कैलोरीफिक वैल्यू होती है अधिक

आरबीएस टेक्नीकल कैंपस, बिचपुरी के डिपार्टमेंट आफ कैमिकल इंजीनियरिंग की हेड डा. श्रद्धा रानी सिंह ने बताया कि एलपीजी में प्रोपेन और ब्यूटेन मुख्य मिश्रण होता है। प्रोपेन जल्दी वाष्पित हो जाती है, जबकि ब्यूटेन देरी से होती है। ब्यूटेन की कैलोरीफिक वैल्यू अधिक होती है। ब्यूटेन का फीसद बढ़ाकर एलपीजी की कैलोरीफिक वैल्यू बढ़ाई जा सकती है।

Edited By: Prateek Gupta