आगरा जागरण संवाददाता। दीपावली बाद पर्यटन के परवाज भरने की उम्मीद लगाए बैठे कारोबारियों को जोर का झटका लगा है। केंद्र सरकार ने इंटरनेशनल फ्लाइट पर लगी रोक 30 नवंबर तक बढ़ा दी है। पूर्व में 15 नवंबर से फ्लाइट शुरू करने की घोषणा की थी।

कोरोना संक्रमण के दस्तक देने के बाद केंद्र सरकार ने मार्च, 2020 में इंटरनेशनल फ्लाइट स्थगित करने के साथ ही टूरिस्ट वीजा सर्विस पर रोक लगा दी थी। डेढ़ वर्ष से इनबाउंड टूरिज्म (विदेशी पर्यटन का काम) पूरी तरह ठप है। पिछले माह केंद्र सरकार ने 15 अक्टूबर से चार्टर्ड फ्लाइट से आने वाले विदेशी पर्यटकों को टूरिस्ट वीजा देने व 15 नवंबर से इंटरनेशनल फ्लाइट से टूरिस्ट वीजा देने की घोषणा की गई थी। अब केंद्र सरकार के ताजा आदेश से पर्यटन कारोबारियों की उम्मीदें फिर टूट गई हैं।

-----------

वीजा पाबंदियों से भी परेशान

सरकार ने वीजा देना तो शुरू कर दिया है, लेकिन कोरोना संक्रमण के चलते लगाई गई पाबंदियों से इनबाउंड टूरिज्म पर असर पड़ना तय है। इससे पर्यटन कारोबारी परेशान हैं। सरकार केवल सिगल एंट्री वीजा (सिर्फ भारत में घूमने की अनुमति) दे रही है, मल्टी एंट्री वीजा (भारत व आसपास के देशों में घूमने की अनुमति) नहीं दिया जा रहा है। कई देशों को ई-वीजा नहीं दिया जा रहा है। वीजा की अवधि 90 दिन से घटाकर 30 दिन कर दी गई है।

--------

दीपावली बाद इनबाउंड टूरिज्म का काम इंटरनेशनल फ्लाइट की शुरुआत होने पर ही संभव था। सरकार ने इंटरनेशनल फ्लाइट को 30 नवंबर तक स्थगित कर जोर का झटका दिया है। आखिर कब तक खाली बैठे रहेंगे।

-सुनील गुप्ता, चेयरमैन, नार्दर्न रीजन इंडियन एसोसिएशन आफ टूर आपरेटर्स कुछ विदेशी पर्यटकों ने फ्लाइट की टिकट बुक कर यहां आना कंफर्म किया था। अब उनका यहां आना मुश्किल होगा। सरकार को इनबाउंड टूरिज्म पर आश्रित पर्यटन कारोबारियों की स्थिति पर विचार करना चाहिए।

-संदीप अरोड़ा, अध्यक्ष, आगरा टूरिज्म डवलपमेंट फाउंडेशन

Edited By: Jagran