आगरा:फीरोजाबाद में मंगलवार देर रात डीएम ने सिरसागंज क्षेत्र के नगला राधे में दो जगह छापामार कार्रवाई कर काले तेल के काले खेल का पर्दाफाश कर दिया। मौके से मथुरा रिफाइनरी से आए पाच टैंकर और उनके चालकों को पकड़ लिया। एक गोदामनुमा इमारत को सील किया गया है। काफी मात्रा में मिट्टी का तेल भी मिला है। आशका जताई जा रही है बिटुमिन (डामर) में मिलावट का कारोबार किया जा रहा था।

डीएम नेहा शर्मा को कई दिनों से सूचना मिल रही थी कि सिरसागंज क्षेत्र में बिटुमिन में मिलावट का कारोबार बड़े पैमाने पर होता है। मंगलवार रात करीब 11 बजे करीब डीएम ने एडीएम उदय सिंह, पीडब्ल्यूडी के अधिकारियों और पुलिस बल के साथ नगला राधे स्थित श्रीराम होटल के निकट छापा मारा। यहा एक टैंकर खड़ा मिला, जबकि दो अन्य टैंकरों को लेकर चालक भागने लगे, जिन्हें घेराबंदी कर पकड़ लिया। होटल से करीब 100 मीटर आगे एक चाहरदीवारी के अंदर पुराना टैंकर एचआर 55-4669 खड़ा था। इसमें आग लगाकर डामर पिघलाया जा रहा था। आसपास भी आग जलती मिली, लेकिन वहा कोई व्यक्ति मौजूद नहीं था। यहा कई ड्रम रखे थे, जिनमें कई तरह के केमिकल एवं बड़ी मात्रा में मिट्टी का तेल (केरोसिन) भरा हुआ था। स्थानीय लोगों ने बताया कि यह जगह मेहरबान सिंह नाम के व्यक्ति की है। डीएम ने परिसर को सील कर निगरानी रखने के निर्देश दिए। इसके बाद उन्होंने थोड़ी दूर स्थित नव ज्योति होटल के पीछे सुबोध कुमार पुत्र लाखन के प्लॉट पर छापा मारा तो वहा भी इसी प्रकार की गतिविधि हो रही थीं। सुबोध कुमार ने अधिकारियों को बताया कि उमेश कुमार पुत्र रामलखन यादव निवासी दक्षिणी मोहनगंज इटावा रोड सिरसागंज को उसने यह प्लॉट 21 फरवरी को दो हजार रुपये प्रतिमाह की दर से किराये पर दिया है।

Posted By: Jagran