आगरा, यशपाल चौहान। फतेहपुर सीकरी में अकबर के किले से अतिक्रमण की किलेबंदी जल्द टूटने वाली है। जागरण के अभियान के बाद एडीए उपाध्यक्ष शुभ्रा सक्सेना ने सोमवार को अधिकारियों की बैठक ली। मंगलवार को स्वयं निर्माण तोडऩे का अंतिम नोटिस दिया जाएगा।

फतेहपुर सीकरी में बुलंद दरवाजे और अकबर के किले के आसपास करीब पांच सौ अवैध निर्माण हैं। इनमें से 51 अवैध निर्माण ऐसे हैं जो संरक्षित स्मारक के निषिद्ध और विनियमित क्षेत्र में बने हैं। भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण के महानिदेशक ने इन सभी निर्माणों को ध्वस्त करने के आदेश दिए थे। वर्षों से ये आदेश अभी फाइलों से बाहर नहीं आ सके थे। दैनिक जागरण ने फतेहपुर सीकरी में अवैध निर्माण की असल तस्वीर दिखाई। सोमवार को एडीए उपाध्यक्ष शुभ्रा सक्सेना ने अधिकारियों की बैठक ली। इसमें शाम तक उन्होंने फतेहपुर सीकरी के अवैध निर्माणों पर रिपोर्ट तलब की। पूरे दिन अधिकारी पुरानी फाइलें खंगालते रहे। इसके बाद शाम को उन्हें रिपोर्ट दी गई। एडीए उपाध्यक्ष ने इसके बाद फतेहपुर सीकरी में अवैध निर्माणों को ध्वस्त करने के लिए अधीक्षण अभियंता त्रिलोकनाथ को नोडल अधिकारी नियुक्त कर दिया।

एडीए उपाध्यक्ष शुभ्रा सक्सेना के अनुसार फतेहपुर सीकरी में अवैध निर्माणों पर रिपोर्ट ली गई है। अंतिम नोटिस की कार्रवाई होने के बाद ध्वस्तीकरण योग्य भवन ध्वस्त कराए जाएंगे।

अतिक्रमणकारियों से होगी ध्वस्तीकरण के खर्च की वसूली

आगरा विकास प्राधिकरण की उपाध्यक्ष ने नोडल अधिकारी नियुक्त त्रिलोकनाथ को निर्देश दिये हैं कि मंगलवार को सभी को अंतिम नोटिस जारी कर दिए जाएं। इसमें स्पष्ट कर दिया जाए कि या तो अवैध निर्माण करने वाले जल्द ही खुद निर्माण तोड़ लें। न तोडऩे पर एडीए जेसीबी से इन निर्माणों को ध्वस्त करेगा। इसे ध्वस्त करने का खर्च भी उन्हीं से वसूला जाएगा। अगर कोई बिल्डिंग कंपाउंड करने लायक है तो उसे कंपाउंड किया जा सकता है। एडीए उपाध्यक्ष ने सीकरी में अवैध निर्माणों को ध्वस्त करने से पहले एक टीम को मुआयना करने के निर्देश दिए हैं। यह टीम ध्वस्तीकरण वाले निर्माणों को चिह्नित करेगी।

एएसपी डॉ. दीक्षा शर्मा ने स्मारक के प्रतिबंधित क्षेत्र में बने गुलमोहर रिसॉर्ट और जोधा बाई रेस्टोरेंट को सील करा दिया था। तब से ये बंद हैं। इनके ध्वस्तीकरण के आदेश भी हो चुके हैं।

क्‍या है अधिकारियों का कहना 

अवैध निर्माण जल्द ही ध्वस्त कराए जाएंगे। इसके लिए एडीए उपाध्यक्ष से वार्ता हुई है। 

एनजी रवि कुमार, डीएम

प्रशासन और एडीए अधिकारी जब कहेंगे उन्हें अभियान के लिए पुलिस फोर्स उपलब्ध करा दिया जाएगा।

अमित पाठक, एसएसपी

एएसआइ के महानिदेशक की ओर से ध्वस्तीकरण के आदेश पूर्व में दिए जा चुके हैं। राज्य के अधिकारी जब भी कार्रवाई करेंगे हम पूरा सहयोग करेंगे।

वसंत कुमार स्वर्णकार, अधीक्षण पुरातत्वविद्  

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Tanu Gupta

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस