आगरा, जागरण संवाददाता। हाथों में राखी थी, चेहरे पर मुस्कान। प्रेम से पगी रेशम की डोरी जब भाई की कलाई पर बंधी तो बहन को आशीष देने हाथ खुद-ब-खुद उठ गए। ये भावनाओं के वह रिश्ते हैं, जिन्हें खुशियों की डोरी से ऐसा बांधा कि वह अटूट हो गए।

खुशियों के ये खूबसूरत पल संजोए थे दैनिक जागरण ने। मौका था भारत रक्षा पर्व कार्यक्रम का। केंद्रीय आयुध भंडारण (सीओडी) में अपने परिवार से दूर रह रहे सैनिक भाइयों की सूनी कलाई के लिए स्कूल में पढ़ने वाली बहनें रेशम की डोर लेकर पहुंची थीं। ये वह सैनिक हैं, जो रक्षाबंधन पर अपने घर नहीं जा पाते। बहनों ने खुद आकर रक्षा का सूत्र बांधा, तो जन्म-जन्मांतर तक रक्षा का वचन भी भाइयों ने दिया। बहनों से राखी बंधवाने की खुशी फौजी भाइयों के चेहरे पर साफ दिखाई दी। बहनों ने खुद अपने हाथों से बुनी राखी बांधी। डॉ. एमपीएस पब्लिक स्कूल, होली पब्लिक स्कूल सिकंदरा, प्रिल्यूड पब्लिक स्कूल दयालबाग, सेंट एंड्रूज स्कूल बरौली अहीर, बलूनी पब्लिक स्कूल दयालबाग से करीब एक सैकड़ा छात्राएं सीओडी पहुंचीं। यहां राखी बंधवाने को सुबह से ही सैनिक बहनों को बहनों का बेसब्री से इंतजार कर रहे थे। बहनों ने राखी बांधी, मिठाई खिलाई, तो बदले में आशीष के साथ सैनिक भाइयों ने उपहार भी दिए। छात्राओं के लिए ये पहला मौका था, जब वह सैनिक भाइयों की कलाई पर राखी बांध रही थीं। चेहरे पर खुशी इस बात की थी, जो हमारी रक्षा कर रहे हैं, उन्हें हम परिवार से दूर रहने की कमी नहीं खलने दे रहे। राखी बांध छात्राओं को भाइयों की ओर से जलपान भी कराया गया। दैनिक जागरण की ओर से विभिन्न स्कूल में छात्राओं द्वारा बनाई गई राखी भी अफसरों को सौंपी गईं। ये रहे मौजूद

कार्यक्रम में सेना की ओर से गीता, शिवशंकर पाठक, प्राची, रोली, दीपक, योगेश चंद्र, अशोक के अलावा डॉ. एमपीएस पब्लिक स्कूल की शैली कपूर, राखी शर्मा, होली पब्लिक स्कूल की हर्षा शर्मा, सीमा तिवारी, सेंट एंड्रूज से वाईपी सिंह, बलूनी पब्लिक स्कूल के प्रिंसिपल सीबी जदली, श्रुति श्रीवास्तव, प्रिल्यूड पब्लिक स्कूल की नेहा अरोरा मौजूद रहीं।

Posted By: Jagran