आगरा, जागरण संवाददाता। डॉ बीआर आंबेडकर विश्‍वविद्यालय के 85 वें दीक्षा समारोह की अध्‍यक्षता करने के दौरान प्रदेश की राज्‍यपाल ने विवि के इतिहास का जिक्र किया तो आने वाले दिनों में अनियमितताएं रोकने को प्रभावी कदम उठाने के निर्देश भी दिए। उन्‍होंने कहा कि विवि कमेटियां गठित कर अनियमितताएं रोके।

शुक्रवार को दीक्षा समारोह में छात्र- छात्राओं को मेडल प्रदान करने के बाद उन्‍होंने अपने संबोधन में कहा कि बेटा बेटी कुपोषण मुक्त होंगे तभी समाज और देश आगे बढ़ेगा। छात्राएं संकल्प लें विवाह के समय मांग करने वालों के साथ विवाह नहीं करेंगी। जो दहेज का विरोध करते हैं उनक समाज में सम्मान होना चाहिए।

राज्‍यपाल ने कहा आगरा के विवि में सम्मिलित होकर प्रसन्नता का अनुभव हो रहा है। सभी बच्चो को बधाई। इस अवसर पर छात्रों को राष्ट्र निर्माण की दीक्षा दी जाती है। यह छात्र नए भारत के निर्माण में अपना योगदान देंगे। आगरा विवि का नाम अंबडेकर के नाम पर है जिनका राष्ट्र के निर्माण में अमूल्य योगदान है जिसे भुलाया नही जा सकता। आगरा ऐतिहासिक धरोहर और क्रांतिकारी लोगो वाला शहर है। आजादी से पहले नेपाल तक के विद्यालय आगरा विद्यालय से सम्बद्ध थे। वर्तमान में पांच लाख से ज्यादा छात्र पढ़ रहे हैं। यहां के छात्रों ने राष्ट्र निर्माण के क्षेत्र में अमूल्य योगदान दिया है। चौधरी चरण सिंह के साथ साथ अटल बिहारी वाजपेयी भी यहां से निकलेे थे। राज्‍यपाल ने कहा कि भारत पहले भी विश्वगुरु रहा है और वर्तमान में भी इस ओर आगे बढ़ रहा है। इसमे आगरा विवि भी अमूल्य योगदान देगा। प्रधानमंत्री का सपना है भारत 2025 तक टीवी मुक्त हो। इसके लिये आगरा विवि कदम उठा चुका है जो धन्यवाद का पात्र है। उन्‍होंने कहा कि मैं जहां भी विवि में जाति हूंं तो देखती हूंं कि बेटियां शिक्षा में कितनी आगे बढ़ रही हैं। जबकि एक ओर हम कुपोषण से जूझ रहे है लेकिन इसके बावजूद भी हमारी बेटियां कितनी सशक्त है यह हमें नही पता है। कुपोषण से सरकार मुक्त कराने के लिए काम कर रही है लेकिन जब तक बेटी नही पढ़ेंगी तब तक कुपोषण दूर नही होगा। आज सम्पूर्ण विश्व बालिका दिवस मना रहा है। आज के इस दिन पर विवि में 650 छात्र- छात्राओं के हीमोग्लोबिन चैक कराया गया है। 10 फीसद से ज्यादा छात्राओं के भीतर हीमोग्लोबिन की कमी है। इसके लिए लोगो को प्रयास करना चाहिए कि जनन्नी कुपोषित नही हो। जब तक गर्भवती स्त्री सशक्त नही होंगी तब तक कुपोषण नही दूर होगा। 650 में से 140 छात्राएं हीमोग्लोबिन की कमी से जूझ रही हैंं, जिसके लिए काम करना होगा। डायट प्लान तैयार करना होगा। टेेस्ट कराना होगा और जब यह दूर हो तब उसका विवाह होगा तब कुपोषण दूर होगा।

राज्‍यपाल ने आगे कहा कि आठ फीसद गोल्ड मैडल छात्राओं ने प्राप्त किया और 20 प्रतिशत गोल्ड मैडल छात्रों के लिए छोड़ दिया। अगर छात्राएं ज्यादा मेहनत करती तो यह भी गोल्ड मैडल लड़कों को नहींं मिलते।

महामहिम ने कहा कि यह तय करना है 15 दिन तक जितनी बेटियां आंगनबाड़ी और प्राइमरी स्कूल में है उसे लक्ष्मी मानकर उसका सम्मान कीजिये। अगर बेटी को लक्ष्मी मानेंगे तो उसका समाज मेंं सम्मान होगा और छेड़छाड़ की घटनाओं पर अंकुश लगेगा। इसके लिए विवि के शिक्षकों को काम करना होगा। उन्‍होंने अपने संबोधन में बाल विवाह को भी जोड़ा कहा कि पूरे भारत मे बाल विवाह हो रहा है। ऐसे प्रकरण विवि के दीक्षांत समारोह में नही उठाये जाते हैंं लेकिन इस पर रोक लगनी चाहिए। लोगो को इसका विरोध करना चाहिए। राज्य सरकार ने बेटियों के विवाह के लिए सामूहिक विवाह का प्रावधान इसको रोकने के लिए किया है। राज्‍यपाल ने मेधावियों से कहा कि गोल्ड मैडल का मिलना एक अच्छी खुशी होती है इससे समाज मेंं अच्छा संदेश परिवार के प्रति जाता है लेकिन जब उसका विवाह का समय आता है तो दहेज की मांग की जाती है। क्या हमारी बेटेे बेटियों में इतनी ताकत नही है कि वह दहेज नहींं मांगे। इसलिए इस अवसर पर छात्र छात्राएं दहेज ना मांगने का संकल्प लेंं। इससे समाज मे सम्मान मिलेगा। दहेज मागने वाले से लड़की शादी नही करे। जब तक यह प्रचलन शांत नही होगा। तब तक दहेज प्रथा खत्‍म नहीं होगी। गुजरात में सेक्स रेशियो पर 2003 से काम किया गया था। उसके चलते विषम परिस्थितियां पैदा हुईंं। 1000 लड़कियों के सापेक्ष 800 लड़कियां रह गई। इसके चलते 200 बच्चे कुंवारे रह गए। इसके लिए मोदी सरकार ने बेटी बचाओ और बेटी पढ़ाओ का नारा हरियाणा से दिया जिसके चलते पांच साल में परिवर्तन हुआ । बेटी हो या बेटा हो उसे जीवन जीने का अधिकार है। राज्‍यपाल ने प्‍लास्टिक बैन करने की बात पर कहा कि प्लास्टिक बाहर फैंकने का काम पूरे देश मे चल रहा है। हमारी एक गलती के कारण गाय बछड़े बर्बाद हो रहे हैंं। बीमार हो रहे हैं। एक ओर जहां गाय बचाने के आंदोलन किये जा रहे है तो वहींं प्लास्टिक से गाय की हत्या की जा रही है। टीबी और प्लास्टिक मुक्त देश बनाने के लिए सरकार काम कर रही है।

इसके आगे राज्‍यपाल ने कहा कि खुशी है कि विवि ने लगभग 600 बच्चाेें को गोद लेने की लिस्‍ट बनाई है। बच्चो को दो तीन महीने तक पोषण युक्त आहार दिया जाएगा। इसमें 5, 6, 7 क्लास के बच्चे शामिल हैंं। ऐसे छात्रों को दीक्षांत समारोह दिखाया जाता है जिससे उनके अंदर भी पढ़ने के लिए जिज्ञासा विकसित हो। हमारे बच्चो के अंदर पढ़ने की आदत नही है इसलिए पढ़ने की आदत विकसित करनी होगी। इसलिए बच्चो को किताबे वितरित की गई हैं।आगरा विवि 85 साल पुराना है। यह सर्वश्रेष्ठ बनना चाहिए। सारे रूल रेगुलेशन का प्लान होना चाहिए, जिससे कोई आंदोलन ना हो। तीन चार प्रकार की कमेटियां यह तय करे कि कोई भी अनियमितता नहींं हो और समस्या का समाधान हो। यह काम किसी एक व्यक्ति का नही है बल्कि सम्पूर्ण विवि प्रसाशन का काम है। इसकी आज मांग इसलिए है क्योंकि आज भारत विश्व गुरु बनने के लिए प्रयास कर रहा है। विवि में हरेक क्लास सहित पूरे कैंपस में सीसीटीबी कैमरा हो।  

Posted By: Tanu Gupta

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप