आगरा, जागरण संवाददाता। जी-20 के कल्चरल कोर ग्रुप की बैठक की मेजबानी मिलने के बाद आगरा को संवारने की कवायद शुरू हो गई है। बुधवार को डीएम नवनीत सिंह चहल ने आगरा किला का दौरा किया। यहां उन्होंने नाले से उठने वाली दुर्गंध रोकने को सफाई करने और पार्किंग से धूल नहीं उड़ने देने को समुचित इंतजाम करने के निर्देश दिए।

देश को एक दिसंबर से 30 नवंबर तक के लिए जी-20 की अध्यक्षता मिलने जा रही है। अगले वर्ष नौ व 10 सितंबर को दिल्ली में शिखर सम्मेलन होगा। छह व सात फरवरी को जी-20 देशों के प्रतिनिधिमंडल द्वारा ताजमहल, आगरा किला, फतेहपुर सीकरी समेत अन्य स्मारकों की विजिट की जाएगी। शहर को दुल्हन की तरह संवारा जाएगा। पिछली बैठक में भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआइ) के अधिकारियों ने डीएम नवनीत सिंह चहल से आगरा किला का स्थलीय निरीक्षण करने का अनुरोध किया था।

बुधवार दोपहर डीएम आगरा किला पहुंचे। आगरा किला के सामने रक्षा संपदा विभाग की जमीन पर पार्किंग चलती है। एडीए ने पार्किंग के विकास का प्रोजेक्ट तैयार किया था, लेकिन बात नहीं बन सकी। यहां धूल उड़ती रहती है। डीएम ने पार्किंग से धूल नहीं उड़े, इसके लिए उचित इंतजाम करने के निर्देश ठेकेदार को दिए। आगरा किला में पर्यटकों को अमर सिंह गेट से प्रवेश मिलता है। यहां से होकर गुजरने वाले नाले की दुर्गंध से पर्यटकों को परेशानी होती है। डीएम ने नगर निगम के अधिकारियों को गेट के दोनों ओर 50-50 मीटर लंबाई में नाले की तलीझाड़ सफाई कराने के निर्देश दिए।एएसआइ द्वारा किए जा रहे पाथवे व टिकट विंडो के काम के बारे में डीएम ने अधिकारियों से जानकारी की। अधिकारियों ने 15 दिसंबर तक काम पूरा होने की बात कही। यहां टिकट विंडो पर लाइन लगने पर पर्यटकों को निकलने में मुश्किल होती है। निरीक्षण के बाद जिलाधिकारी ने आगरा किला का भ्रमण किया। अधीक्षण पुरातत्वविद् डा. राजकुमार पटेल, सहायक अधीक्षण पुरातत्व अभियंता अमरनाथ गुप्ता, संरक्षण सहायक कलंदर, नगर निगम व एडीए के अधिकारी मौजूद रहे।

 

Edited By: Tanu Gupta

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट