आगरा, जेएनएन। मैनपुरी के भोगांव के गांव सीपुरी निवासी सेना जवान प्रदीप यादव को गुरुवार सुबह सैनिक सम्मान के साथ अंतिम विदाई दी गई। प्रदीप यादव बबीना छावनी, झांसी में तैनात थे। मंगलवार रात गश्त के दौरान एक अन्य जवान ने उनकी हत्या कर दी थी। बुधवार रात उनका शव भोगांव स्थित उनके घर पहुंचा था। गुरुवार सुबह उनके अंतिम दर्शनों को तांता लगा रहा। आठ बजे उनकी अंतिम यात्रा शुरू हुई, जिसमें सैकड़ों लोग शामिल थे।

सैनिक को सलामी देने के लिए सेना की आगरा यूनिट की टुकड़ी आई थी। सलामी के बाद अंतिम संस्कार शुरू हुआ। छोटे भाई नवीन यादव ने मुखाग्नि दी। इस दौरान मृतक जवान प्रदीप यादव के बच्चे भी जय हिंद के जयघोष कर रहे थे। 

बता दें कि प्रदीप यादव (35) पुत्र अरब सिंह यादव थलसेना में आम्र्स बिग्रेड में कार्यरत थे। फिलहाल उनकी तैनाती झांसी की बबीना छावनी में थी। मंगलवार शाम उन्हें छावनी परिसर की आर्मी पोस्ट एमटी गैरिज पर तैनात किया गया था। रात करीब 10 बजे एक संदिग्ध व्यक्ति गैरिज में घुसने का प्रयास किया। सजग प्रदीप यादव ने पकडऩे की कोशिश की तो वह भाग निकला। प्रदीप उसके पीछे हो लिए। कुछ ही दूरी पर उसे दबोच लिया। संदिग्ध ने उनके सिर पर लोहे की रॉड से हमला कर दिया। वह अचेत हो गए तो उनके सिर पर कई वार किए। इस बीच प्रदीप यादव के अन्य साथी आ चुके थे। हमलावर को दबोच लिया। उसकी पहचान दूसरी यूनिट के सैनिक राजीव भराली निवासी असोम के रूप में हुई। सैनिकों ने उसे कब्जे में ले लिया। राजीव भराली एमटी गैरिज में छिपकर क्यों गया था? उसने सैनिक प्रदीप यादव पर हमला क्यों किया, इन सवालों के जवाब परिजनों को नहीं मिल सके हैं। छावनी परिसर में सैनिक की हत्या से तमाम सवाल खड़े हो गए हैं। परिजन हर सवाल का जवाब चाहते हैं। 

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Tanu Gupta

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप