आगरा, जागरण संवाददाता। फेसबुक पर अंजानों से दोस्ती करने के शौकीन हैं तो संभल जाइए। यहां साइबर शातिरों ने अपना जाल बिछा रखा है। दोस्ती करके मजबूरी दिखाकर ये लोगों से ठगी करते हैं। सदर क्षेत्र का एक युवक ऐसे ही फेसबुक पर एक विदेशी युवती से दोस्ती करके फंस गया। तीस हजार रुपये खाते में जमा कराने के बाद 50 हजार की और मांग की जा रही थी। अब उसने सदर थाने में शिकायत की है।

सदर निवासी अनुज अग्रवाल प्राइवेट कंपनी में काम करते हैं। 27 सितंबर को उनके फेसबुक एकाउंट पर रोज स्मिथ नाम से फ्रैंड रिक्वेस्ट आई। प्रोफाइल पर खूबसूरत युवती का फोटो लगा था। अनुज ने उसकी फ्रैंड रिक्वेस्ट स्वीकार कर ली। इसके बाद फेसबुक मैसेंजर पर बात होने लगी। कुछ दिन बाद वाट््सएप पर चैटिंग करने लगे। आठ अक्टूबर को युवती ने अनुज से कहा कि वह उससे मिलने भारत आ रही है। उसी दिन उसने एयरपोर्ट से मुंबई के लिए फ्लाइट लेने की बात भी कही। दूसरे दिन अनुज के नंबर पर एक अंतरराष्ट्रीय कॉल आई। उसने कहा कि रोज स्मिथ मुंबई एयरपोर्ट पर किसी मुश्किल में फंस गई है। वहां उसका डेबिट कार्ड ब्लॉक हो गया है।

कस्टम अधिकारी ने मेडिकल के लिए रोक लिया है। उसको तीस हजार रुपये की जरूरत है। अनुज ने तीस हजार रुपये उसके बताए गए खाते में जमा करा दिए। 10 अक्टूबर को दोबारा कॉल आई। कॉल करने वाले ने कहा कि अब रोज स्मिथ को एंटी टेरेरिस्ट सर्टिफिकेट की जरूरत है। इसके लिए पचास हजार रुपये जमा कराने पड़ेंगे। यह रुपये वापस हो जाएंगे। अनुज ने मुंबई एयरपोर्ट पर कॉल करके रोज स्मिथ के बारे में जानकारी की तो पता चला कि वहां इस नाम की कोई महिला नहीं है। न ही कोई इस तरह का सर्टिफिकेट होता है। शुक्रवार को अनुज ने सदर थाने में मामले की शिकायत कर दी। इंस्पेक्टर सदर कमलेश सिंह ने बताया कि मामला साइबर सेल में जांच को भेजा गया है। 

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021