आगरा, तनु गुप्‍ता। दिल्ली में अपने काम से पहचान बनाने वाली तीन बार मुख्यमंत्री रहीं शीला दीक्षित का मोहब्बत की नगरी से भी दिल का रिश्ता रहा। करीब चार दशक पहले जो भावनात्मक रिश्ता जुड़ा, उसके तार दिन गुजरने के साथ और मजबूत होते गए। शनिवार को उनके निधन की खबर आई तो वह दरो-दीवार भी गहरे सन्नाटे में डूब गए, जहां उन्होंने अपने पल गुजारे थे। 

10 मार्च 1976। इसी दिन शीला दीक्षित के पति और आइएएस अधिकारी विनोद दीक्षित की तैनाती आगरा में जिलाधिकारी के रूप में हुई थी। शीला दीक्षित भी उनके साथ यहां रहने आईं तब वह कांग्रेस से जुड़ी थीं, लेकिन उस वक्त उनके पास पार्टी में कोई पद नहीं था। लेकिन यहां सामाजिक कार्यों में वह बढ़-चढ़कर हिस्सा लेती थीं। कांग्रेस पार्षद शिरोमणि सिंह कहते हैं कि शीला दीक्षित ने आगरा के लिए बहुत कुछ किया। 12 नवंबर 1976 तक पति यहां डीएम रहे। तब डीएम कंपाउंड में सांस्कृतिक गतिविधियां काफी होती थीं। दरअसल, शीला दीक्षित का कला के प्रति गहरा रुझान था, तो पति की क्रिकेट में गहरी दिलचस्पी। यही कारण था कि शहर के युवाओं के लिए आए दिन खेल गतिविधियां भी होती थीं। सामाजिक कार्यकर्ता राजीव सक्सेना कहते हैं कि शीला दीक्षित के श्वसुर उमाशंकर दीक्षित कांग्रेस सरकार के दौरान गृहमंत्री थे। ऐस में राजनीतिक गतिविधियों की ओर भी उनका झुकाव रहा। वह युवा कांग्रेस के पांच सूत्रीय कार्यक्रम से जुड़ी हुई थीं। पौधरोपण अभियान हो या फिर रक्तदान शिविर, हर कार्यक्रम में मौजूदगी से लोग उनसे दिल से जुड़ते गए। खेल प्रेमी समीर चतुर्वेदी बताते हैं कि शीला दीक्षित ने आगरा में राष्ट्रीय स्तर का तानसेन संगीत सम्मेलन कराया था। इसकी वह संयोजक थीं, तब बिस्मिल्लाह खां जैसे लोगों ने इसमें शिरकत की थी। 

चुनाव प्रचार की थामी थी कमान  

पूर्व मंत्री कृष्णवीर सिंह कौशल बताते हैं कि शीला दीक्षित से उनकी मुलाकात वर्ष 1974 में चुनाव के दौरान दिल्ली में हुई थी। तब चुनाव प्रचार सामग्र्री आदि के लिए शीला दीक्षित ने उनकी काफी मदद की थी। यही कारण था कि जब वह आगरा आईं तो वे स्थानीय कांग्रेसियों से सीधा जुड़ाव रखती थीं। वर्ष 1977 में हुए विधानसभा चुनाव में कृष्णवीर सिंह कौशल के लिए शीला दीक्षित ने प्रचार भी किया था। छह माह पहले भी कौशल ने उनसे दिल्ली निवास पर मुलाकात की।   

आगरा की पहली महिला क्रिकेट संघ की अध्यक्ष  

आगरा में क्रिकेट संघ की स्थापना करने वाले कैप्टन व्यास चतुर्वेदी बताते हैं कि शीला दीक्षित राजनेता के साथ खेल प्रेमी भी थीं। शीला दीक्षित ने आगरा में निवास के दौरान महिलाओं की प्रतिभा को आगे बढ़ाने के लिए कई कार्य किए। आगरा में जब क्रिकेट संघ की उन्होंने स्थापना की उस वक्त महिला संघ का अध्यक्ष उन्होंने शीला दीक्षित को ही बनाया था। व्यस्त दिनचर्या के बाद भी वे खिलाडिय़ों के उत्साहवर्धन के लिए समय निकालती थीं।  

पति थे आगरा के तेज तर्रार डीएम  

पूर्व सांसद निहाल सिंह जैन बताते हैं कि शीला दीक्षित के पति और आगरा के जिलाधिकारी रहे विनोद कुमार दीक्षित तेज तर्रार जिलाधिकारियों में माने जाते थे। इसके अलावा वे आगरा नगर महापालिका के प्रशासक भी रहे थे।  

आज़ादी की 72वीं वर्षगाँठ पर भेजें देश भक्ति से जुड़ी कविता, शायरी, कहानी और जीतें फोन, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Tanu Gupta