आगरा, अनुपम चतुर्वेदी। मुंबई पुलिस में तैनात रहे सीनियर इंस्पेक्टर और एनकाउंटर स्पेशलिस्ट प्रदीप शर्मा ने अब दूसरी पारी खेलने का इरादा किया है। 113 एनकाउंटर कर चुके आगरा के लताकुंज निवासी प्रदीप कुमार शर्मा मूलरूप से मथुरा के रहने वाले हैं। पिछले कई सालों से उनके बड़े भाई प्रमोद शर्मा यहां रह रहे हैं। प्रदीप पहले से ही देशभर में चर्चित रहे और आगरा का मान बढ़ाया। अब उनकी दूसरी पारी में भी कामयाबी की दुआ की जा रही है।

प्रदीप पांचवीं तक पढ़ाई के बाद महाराष्ट्र चले गए थे जहां उनके पिता आरके शर्मा अंग्रेजी के प्रोफेसर थे। वहीं पर उन्होंने आगे की पढ़ाई की। इसके बाद मुंबई पुलिस में बतौर उप निरीक्षक भर्ती हुए। उनकी तेजतर्रार छवि को देखते हुए उनको क्राइम ब्रांच में तैनात किया। यहां उन्होंने पूरी लगन के साथ अपने काम को अंजाम दिया। अपराधियों में उनकी दहशत थी।

समाजसेवा का इससे बेहतर नहीं कोई विकल्प

वरिष्ठ निरीक्षक पद से वीआरएस ले चुके प्रदीप शर्मा ने फोन पर बताया कि इसी साल उनको रिटायर होना था। कुछ माह पहले उनके पास शिव सेना से विधानसभा चुनाव के लिए ऑफर आया। घर में कोई भी व्यक्ति राजनीति से जुड़ा नहीं था तो उनको भी लगा वो इसमें सफल कैसे होंगे। लेकिन, जिस व्यक्ति ने ये ऑफर दिया था उन्हें मना भी नहीं कर सकते थे। उनको भी लगा कि मुंबई के लोगों की सेवा जिंदगी भर करनी है तो इससे अच्छा कोई विकल्प नहीं है। प्रदीप बताते हैं कि उनको पार्टी ने भी उसी जगह से चुनाव लड़ाने का निर्णय लिया जो जहां अपराध और अपराधियों की बाढ़ है।

मुम्बई के इस क्षेत्र को सभी नाला सोपारा के नाम से जानते हैं। 30 साल से यहां एक ही आदमी का कब्जा है। प्रदीप का कहना है कि वे इस क्षेत्र को अपराध और अपराधी दोनों से मुक्त करने के लिए चुनाव लड़ रहे हैं। क्षेत्र के लोगों का भी उनको बहुत प्यार मिल रहा है। इस बार तीस साल का रिकॉर्ड अवश्य टूटेगा।

प्रदीप का निर्णय उचित

प्रदीप के भाई प्रमोद कुमार शर्मा बताते हैं कि प्रदीप का चुनाव लडऩे का निर्णय बिल्कुल सही है। वो मेहनत करने वाला व्यक्ति है। समाज की सेवा करना चाहता है। यही वजह है कि उसने चुनाव लडऩे का निर्णय लिया। 

Posted By: Prateek Gupta

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप