आगरा, जागरण संवाददाता। आगरा में डा. भीमराव आंबेडकर विश्वविद्यालय ने राष्ट्रीय शिक्षा नीति के अंतर्गत स्नातक की पहली सेमेस्टर परीक्षा का परिणाम घोषित कर दिया है। परीक्षा शुल्क जमा नहीं करने वाले 276 कालेजों के लगभग 58 हजार छात्रों का परिणाम रोक लिया गया है।

अप्रैल माह में हुई थीं परीक्षाएं

राष्ट्रीय शिक्षा नीति के अंतर्गत प्रवेशित किए गए बीए, बीएससी और बीकाम के प्रथम सेमेस्टर की परीक्षाएं अप्रैल माह में हुई थीं। बीए के 89314, बीकाम के 13429 और बीएससी के 72158 छात्रों का परिणाम घोषित किया गया। विश्वविद्यालय ने परीक्षा शुल्क जमा नहीं करने वाले 276 कालेजों के लगभग 58 हजार छात्रों का परीक्षा परिणाम रोक लिया गया है।

परीक्षा नियंत्रक अजय कृष्ण यादव का कहना है कि जिन कालेजों का परीक्षा शुल्क जमा होता जाएगा, उनके परिणाम घोषित कर दिए जाएंगे। परीक्षा शुल्क जमा कराने के लिए परीक्षा नियंत्रक ने एक बार फिर से कालेजों को पत्र जारी किया है। उसे वेबसाइट पर भी अपलोड किया गया है।

कालेजों ने परीक्षा शुल्क जमा नहीं किया

बता दें कि 300 से ज्यादा कालेजों ने परीक्षा शुल्क जमा नहीं किया था। विश्वविद्यालय के लगातार दबाव और पत्रों के बाद 100 से ज्यादा कालेजों ने परीक्षा शुल्क जमा करा दिया। पर अभी भी 276 कालेजों ने परीक्षा शुल्क जमा नहीं किया है।

छात्रों को मिले ग्रेड

राष्ट्रीय शिक्षा नीति के तहत हुई सेमेस्टर परीक्षा में छात्रों को अंकों की बजाय ग्रेड मिले हैं। परीक्षा ओएमआर प्रारूप में हुई थी। ग्रेडों में सबसे उच्च ग्रेड ओ है और नीचे का ग्रेड एफ है।

305 कालेजों पर बकाया थे दस करोड़ रुपये

विश्वविद्यालय से संबद्ध 800 कालेजों ने राष्ट्रीय शिक्षा नीति के अंतर्गत सेमेस्टर परीक्षा कराई थी। पिछले महीने 350 से ज्यादा कालेजों को 31 मई तक परीक्षा शुल्क जमा करने के निर्देश दिए थे। इसके बाद 50 कालेजों ने शुल्क जमा करा दिया था। इसके बाद भी 305 कालेज ऐसेबचे थे, जिन्होंने परीक्षा शुल्क जमा नहीं कराया था। विगत तीन जून को उन्हें नोटिस भी जारी किया गया था। 

Edited By: Abhishek Saxena