आगरा, जागरण संवाददाता। इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आइएमए) के पूर्व अध्यक्ष डाक्टर सुधीर धाकरे और हास्पिटल संचालक डाक्टर सुरेंद्र सिंह भगौर ने एक दूसरे के खिलाफ जानलेवा हमले का मुकदमा दर्ज कराया है। दोनों में रविवार की देर रात विवाद हो गया था। एक दूसरे पर फायरिंग का आरोप लगाया था।

हीरा बाग कॉलोनी निवासी डाक्टर सुधीर सिंह धाकरे के छोटे भाई डाक्टर सचिन धाकरे का न्यू आगरा कालोनी में डायग्नोस्टिक सेंटर है। सेंटर के सामने ही डाक्टर सुरेंद्र भगौर का यशवंत हास्पिटल है। डाक्टर धाकरे ने बताया, वह रविवार की रात सेंटर की ओर से निकल रहे थे। उसके सामने सड़क पर खड़ी गाड़ी से यातायात प्रभावित हो रहा था। उन्होंने गाड़ी हटाने की कहा तो यशवंत हास्पिटल का स्टाफ विवाद करने लगा। इस पर वह घर चले आए। आधी रात को हास्पिटल संचालक सुरेंद्र भगौर ने उनके घर पर लोगों के साथ हमला बोल दिया। घर में तोड़फोड़ की। उन्हें और पत्नी को पीटा, फायरिंग भी की।

वहीं, हास्पिटल संचालक सुरेंद्र भागौर ने पुलिस को बताया, स्टाफ ने उन्हें डाक्टर सुधीर सिंह धाकरे द्वारा अभद्रता की जानकारी दी। उन्होंने डाक्टर धाकरे को फोन किया तो वह उनसे भी अभद्रता करने लगे। आधी रात को घर लौटते में हीरा बाग कालोनी मोड़ पर डाक्टर धाकरे मिल गए। उन्होंने और उनकी पत्‍‌नी ने उनसे मारपीट की। डाक्टर धाकरे ने गोली चलाई। एएसपी सौरभ दीक्षित ने बताया मारपीट के सीसीटीवी फुटेज पुलिस को मिले हैं। दोनों डाक्टरों ने एक दूसरे के खिलाफ जानलेवा हमले के आरोप में मुकदमा दर्ज कराया है। गोली किसने चलाई इसकी जाच की जा रही है। डाक्टर धाकरे पर फर्जी मुकदमा दर्ज कराया गया: आइएमए

आइएमए अध्यक्ष डाक्टर रवि पचौरी समेत अन्य पदाधिकारी सोमवार को एसएसपी बबलू कुमार से मिले। पदाधिकारियों ने एसएसपी से कहा कि डाक्टर धाकरे पर हास्पिटल संचालक ने जानलेवा हमले का फर्जी मुकदमा दर्ज कराया है। आइएमए ने हास्पिटल संचालक की डिग्री पर सवाल उठाए हैं। आइएमए अध्यक्ष रवि पचौरी ने बताया कि डिग्री की जाच कराने के लिए इंडियन मेडिकल एसोसिएशन मुख्यालय को पत्र लिखा है।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस