जागरण टीम, आगरा। जिलाधिकारी प्रभु एन सिंह सोमवार को फतेहाबाद के गांव बिचौला और रसूलपुर में पहुंचकर जमीनी हकीकत देखी। उन्होंने दोनों गांवों के प्रधान व लोगों के प्रयास को सराहा। हौसला बढ़ाते हुए कहा कि दोनों ग्राम पंचायतों ने आगरा ही नहीं बल्कि उत्तर प्रदेश में अनुकरणीय कार्य किया है। इसी तरह पूरे जिले को वैक्सीनेट करना हमारा लक्ष्य है। डीएम ने दोनों गांवों के लोगों की समस्याएं सुनीं और निस्तारण के निर्देश दिए।

बिचौला की प्रधान गुड्डी देवी ने डीएम को गांव में जलभराव की समस्या बताई। डीएम ने खंड विकास अधिकारी से एस्टीमेट बनाकर प्रस्तुत करने को कहा। इसके बाद वे रसूलपुर पहुंचे। यहां भी जनसमस्याओं के समाधान के निर्देश दिए। डीएम ने कहा कि कोरोना की तीसरी लहर आने वाली है। इससे पूर्व ही सभी को वैक्सीनेशन कराना होगा। बिचौला और रसूलपुर की तरह ही अन्य गांवों के लोग शत-प्रतिशत वैक्सीनेशन के लक्ष्य को प्राप्त करें। उनके साथ खंड विकास अधिकारी मंगल यादव, सीएचसी अधीक्षक डा. एके सिंह आदि अधिकारी मौजूद रहै। जल्द चालू होगा पुराना नाला

डीएम ने बताया कि गांवों में स्थित तालाब इंटरकनेक्ट हैं। इससे पानी की जल्द ही निकासी हो जाती है। बरसात के दिनों में ही जलभराव की परेशानी होती है। उन्होंने कहा कि एक वर्ष पुराना नाला जल्द ही चालू कराया जाएगा। पिनाहट और एत्मादपुर में 2210 लोगों ने लगवाई वैक्सीन

जागरण टीम, आगरा। देहात अंचल में अलग-अलग जगह सोमवार को वैक्सीनेशन का काम हुआ। पिनाहट की रेहा ग्राम पंचायत में 20 स्थानों पर शिविर लगाए गए। सुबह 10 बजे से शुरू होने वाला काम 12 बजे बाद हुआ। शाम तक सभी शिविरों में 1200 लोगों को वैक्सीन लगाई गई। सीएचसी प्रभारी डा. विजय कुमार सिंह ने बताया कि दो हजार लोगों को वैक्सीन लगाने का लक्ष्य था लेकिन आगरा से वैक्सीन पहुंचने में देरी हुई। इस कारण 1200 लोगों को ही वैक्सीन लगाई जा सकी। ग्राम प्रधान अजय कौशिक ने बताया कि जगतूपुरा, कयेड़ी, बड़ापुरा, बाज का पुरा, सुखभान पुरा, तासौड़, कुरकियनपुरा, अनिरुद्धपुरा, रेहा में शिविर लगाए गए। मंसुखपुरा में भी दो स्थानों पर शिविर लगाए गए। वहीं एत्मादपुर के 20 गांवों में वैक्सीनेशन का कार्य हुआ। यहां कुल 1010 लोगों को वैक्सीन लगाई गई।

Edited By: Jagran