आगरा, जेएनएन। प्रदेश के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने कहा कि सीएए का जो लोग विरोध कर रहे हैं। वह मानसिक रूप से बीमार है। उनको किसी अच्छे डॉक्टर से उपचार कराना चाहिए। रविवार को उन्होंने निकुंज वन पहुंच कर संत विजय कौशल महाराज से मुलाकात की और बांके बिहारी जी के भी दर्शन कर अपनी मनोकामना पूर्ण आने क आशीर्वाद लिया। 

डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ब्रजक्षेत्र में चल रहे विकास कार्यों समीक्षा करने के लिए रविवार को वृंदावन आए थे। रविवार को पवनहंस हेलीपैड पर पत्रकारों से बातचीत करते हुए उन्होंने कहा कि ब्रजक्षेत्र के विकास के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ गंभीर हैं। जो भी विकास कार्य चल रहे हैं। उनकी समीक्षा की गई है। अधिकारियों के साथ बैठक में जरूरी निर्णय लिए गए हैं। फरवरी के महीने में लखनऊ में समीक्षा बैठक होनी है। एकसाल में सभी विकास कार्य पूरे हों। इसके निर्देश भी दिए हैं। कहा कि अगले साल जनवरी में वृंदावन में लगने वाले अद्र्धकुंभ की तैयारियों पर भी चर्चा की गई है। अद्र्धकुंभ भव्य और दिव्य हो, ऐसी इच्छा मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की है। इसलिए तैयारियां अभी से शुरू हो चुकी हैं। वृंदावन में ऐसी सड़कें बनाई जाएंगी। जिससे श्रद्धालुओं को कोई असुविधा का सामना न करना पड़े। मथुरा में जेई की हत्या के सवाल पर डिप्टी सीएम ने राधे-राधे कर सवाल टाल दिया। यमुना प्रदूषण पर डिप्टी सीएम मौर्य ने कहा कि यमुना को निर्मल बनाने का लगातार प्रयास हो रहा है। इससे पहले उप मुख्यमंत्री ने ठाकुर बांके बिहारी जी के दर्शन कि और निकुंजवन आश्रम पहुंचकर संत विजय कौशल महाराज का का भी आशीर्वाद लिया। यहां विकास कार्यों को लेकर अधिकारियों के साथ मीटिंग की। वह करीब आधे घंटे की देरी से वृंदावन पहुंचे थे। 

सड़कों के निर्माण पर खर्च होंगे करोड़ों 

प्रदेश के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने निकुंज वन में अधिकारियों की बुलाई बैठक में जरूरी सड़कों का निर्माण प्राथमिकता के आधार पर कराने के निर्देश दिए और कहा कि तय सीमा में उनका निर्माण कार्य काया जाए। उन्होंने सरकार की मंशा से अधिकारियों को अवगत करते हुए कहा कि प्रदेश सरकार मथुरा-वृन्दावन को धार्मिक हब के रूप में विकासित करना चाहती है। उपमुख्यमंत्री ने कहा कि यमुना एक्सप्रेस से वृंदावन तक (पागल बाबा मन्दिर) फोरलेन का निर्माण हेतु 25060.63 लाख रुपये खर्च किए जाएंगे। मथुरा में गोवर्धन परिक्रमा मार्ग के चारो ओर 10 मीटर चैड़ाई में सर्विस रोड़ के निर्माण पर 15473.02 लाख रुपये की लागत आएगी। इसी तरह फरह रजवाह की पटरी को कोसीखुर्द तक मार्ग का नवनिर्माण कार्य के लिए 783.87 लाख, फरह-सौंख मार्ग का चैड़ीकरण एवं सु²ढ़ीकरण के कार्य को 6519.86 लाख का प्रस्ताव किया गया है। 

दिल्ली-कलकत्ता मार्ग (सिविल लाइन से भूतेश्वर होते हुए मसानी तक) पर सुधार एवं फुटपाथ और अन्य कार्य के लिए 1300.00 के कार्य भूतेश्वर तिराहे से गोवर्धन चैराहे तक मार्ग पर इंटरलॉङ्क्षकग टाइल्स का कार्य 114.00 लाख, नंदगांव कामां मार्ग से संचौली मार्ग तक चैड़ीकरण का कार्य 300.00 लाख, कोसी से कामर मार्ग तक नवनिर्माण कार्य को 717.00 लाख, छटीकरा राल राधाकुण्ड मार्ग को 2000.00 लाख, फतिहा हथावली वाया बेरी ओल मार्ग पर सु²ढ़ीकरण के कार्य 600.00 लाख के कार्यों को भी प्रस्तावित किया गया।

मीटिंग में उप मुख्यमंत्री के समक्ष यमुना एक्सप्रेस वे, मांट कट से बेलवन होते हुए जुगलघाट से वृंदावन परिमार्ग का दो लेन मार्ग का निर्माण कार्य कराने के लिए 13600.00 लाख की अनुमानित योजना प्रस्तुत की गई। इस योजना के अन्तर्गत यमुना एक्सप्रेस वे के मांट कट से प्रारम्भ होकर मथुरा-वृन्दावन, मांट एवं नौहझील मार्ग के किमी 17 होते हुए बेलवन लक्ष्मी के मंदिर से जुगलघाट से वृंदावन परिक्रमा मार्ग प्रस्तावित किया गया। जिसकी कुल लम्बाई 14.035 किमी है। उपमुख्यमंत्री ने समक्ष कई विकास कार्यों की समीक्षा प्रस्तुत की गई, जिस पर उन्होंने अपनी सहमति दी। बैठक में सचिव लोक निर्माण विभाग समीर वर्मा, डीएम सर्वज्ञराम मिश्रा, उप्र ब्रज तीर्थ विकास परिषद के उपाध्यक्ष शैलजाकांत मिश्र, सीईओ नागेंद्र प्रताप, सीडीओ रामनेवास, एडीएम फाइनेंस ब्रजेश कुमार, लोक निर्माण, जलनिगम, नगर निगम, सिंचाई विभाग के अधिकारी मौजूद रहे। 

 

Posted By: Tanu Gupta

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस