आगरा, जागरण संवाददाता। उच्च न्यायालय खंडपीठ स्थापना की मांग को लेकर गुरुवार को आगरा व मथुरा के दो सौ से ज्यादा अधिवक्ता जेवर पहुंचे। अधिवक्ताओं ने प्रधानमंत्री की सभा में खंडपीठ की मांग को लेकर नारेबाजी कर बैनर लहराए। जस्टिस जसवंत सिंह आयोग की रिपोर्ट लागू करो, उच्च न्यायालय की खंडपीठ स्थापित करो को नारे लगाए। इस दौरान अधिवक्ताओं की पुलिस-प्रशासन के अधिकारियों से नोकझोंक भी हुई। जिसके बाद उन्होंने अधिकारियों को ज्ञापन दिया।

आगरा से उच्च न्यायलय खंडपीठ स्थापना संघर्ष समिति का प्रतिनिधि मंडल गुरुवार सुबह करीब नौ बजे दीवानी परिसर से जेवर के लिए रवाना हुआ। एक्सप्रेस वे पर रास्ते में ही मथुरा के अधिवक्ता भी उनके साथ हो लिए। पुलिस की नाकाबंदी के बावजूद अधिवक्ता बस व व्यक्तिगत वाहनों से दोपहर लगभग डेढ़ बजे जेवर पहुंचने में सफल रहे। यहां प्रधानमंत्री को जेवर एयरपोर्ट शिलान्यस कार्यक्रम के लिए आए थे।

समिति के पदाधिकारियों दुर्ग विजय सिंह भइया,अजय चौधरी,सत्येंद्र कुमार यादव, विनय अग्रवाल, जितेंद्र कुमार अरेला आदि को पुलिस ने प्रस्तावित एयरपोर्ट के प्रवेश द्वार पर रोक लिया। अधिवक्ताओं ने मुख्य द्वार पर खंडपीठ की मांग को लेकर नारेबाजी और प्रदर्शन किया। मगर, दर्जनों अधिवक्ता सभा स्थल पर पहुंचने में सफल रहे। उन्होंने प्रधानमंत्री के भाषण के दौरान जस्टिस जसवंत सिंह आयोग की रिपोर्ट लागू करो, आगरा में खंडपीठ स्थापित करो के नारे लगाने के साथ बैनर फहराया।

जिस पर वहां तैनात पुलिस-प्रशासन के अधिकारी वहां पहुंच गए। अधिवक्ताओं की अधिकारियों के साथ नोंक झोंक भी हुई। अधिकारियों ने प्रदर्शन करने वाले अधिवक्ताओं को बमुश्किल समझाया। कमिश्नर के निर्देश पर अधिवक्ता हेमंत भारद्वाज, वीरेंद्र फौजदार, प्रमोद शर्मा, राम प्रकाश शर्मा आदि ने अधिकारियों को ज्ञापन दिया।

जेवर में प्रदर्शन में मौजूद रहे अधिवक्ता

सत्य प्रकाश सिंह, राजीव कुलश्रेष्ठ, योगेश कुलश्रेष्ठ, अशोक भारद्वाज, नरेश शर्मा, अनिल तिवारी, सतय प्रकाश सिंह, जय सिंह, हरीश चतुर्वेदी, संजय कप्तान, अरुण, प्रिया, दीपक शर्मा, गिरधारी लाल चौरसिया, अनूप शर्मा, राहुल गुप्ता, केके शर्मा, आरके सहगल, अधर शर्मा, हरजीत अरोरा, दुष्यंत अस्थाना आदि थे। 

Edited By: Tanu Gupta