आगरा, जेएनएन। एटा के मिरहची विस्फोट कांड के पीडि़तों को मुआवजा न मिल पाने के कारण उनके अंदर बेचैनी बढ़ रही है। उन्हें भरोसा नहीं हो रहा कि सरकार आर्थिक सहायता करेगी या नहीं। दूसरी तरफ विपक्षी दलों ने भी मुआवजा न देने पर हमला तेज कर दिया। पिछड़ा दलित महासभा ने कलक्ट्रेट पर प्रदर्शन कर ज्ञापन सौंपा। वहीं प्रगतिशील समाजवादी पार्टी का प्रतिनिधि मंडल पीडि़तों से मिला और 10-10 लाख रुपये देने की मांग की है।

मिरहची विस्फोट कांड में सात लोगों की मौत हो गई थी। कुछ परिवार तो ऐसे हैं जिनमें एक से ज्यादा जनहानि हुई है तथा उनके मकान भी दरार पडऩे के कारण गिरासू हालत में हैं। पीडि़त परिवारों को मुआवजा देने की मांग घटना वाले दिन से ही उठ रही है। सांसद राजवीर सिंह ने भी पीडि़तों को भरोसा दिया है कि वे सरकार से मुआवजा दिलाने की पूरी कोशिश करेंगे। प्रशासन ने भी अपनी तरफ से प्रस्ताव भेज रखा है, लेकिन अभी तक कोई ऐसी सूचना पीडि़त परिवारों को नहीं मिली, जिससे उन्हें राहत मिलती। इस बीच प्रसपा नेता राजू आर्या के नेतृत्व में पार्टी का प्रतिनिधि मंडल मिरहची पहुंचा और पीडि़त परिवारों से मिला। शोक संतृप्त परिवारों को प्रसपा नेताओं ने आश्वासन दिया कि संकट की घड़ी में पार्टी उनके साथ है। सरकार से मुआवजा दिलाने क लिए अगर संघर्ष करने की आवश्यकता पड़ेगी तो पीछे नहीं हटेंगे।

इसके अलावा मंगलवार को पिछड़ा दलित महासभा के कार्यकर्ताओं ने कलक्ट्रेट पर प्रदर्शन किया तथा मुख्यमंत्री के नाम संबोधित ज्ञापन एडीएम प्रशासन केपी सिंह को देकर मांग की कि मिरहची विस्फोट कांड के पीडि़त परिवारों को मुआवजा दिया जाए। इस अवसर पर महासभा के अध्यक्ष कैलाश लोधी ने कहा कि अगर प्रशासन ने सुनवाई नहीं की तो आंदोलन छेड़ दिया जाएगा। ज्ञापन देने वालों में प्रगति वर्मा, अरुण कुमार, तेज ङ्क्षसह, वीरपाल सिंह आदि मौजूद रहे।

 

Posted By: Prateek Gupta

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस