आगरा, जागरण संवाददाता। राज्यपाल के आने से 24 घंटे पहले पुलिस ने बैचलर आफ आयुर्वेदिक मेडिसिन एंड सर्जरी (बीएएमएस) की उत्तर पुस्तिकाएं बदलने के मामले में दो और आरोपितों को शनिवार गिरफ्तार कर लिया। जिसमें कासगंज निवासी गिरोह का साल्वर पुनीत, बीएएमएस छात्र है। जबकि जौनपुर निवासी दुर्गेश दलाल बताया गया है। आरोपितों से तीन उत्तर पुस्तिका बरामद कर उन्हें जेल भेज दिया।

मुख्य आरोपित छात्र नेता फरार

हालांकि मुख्य आरोपित छात्र नेता राहुल पाराशर को पकड़ने में पुलिस अभी तक नाकाम रही है। आरोपितों से प्रारंभिक पूछताछ में उत्तर पुस्तिकाएं बदलने का जाल विवि से एजेंसी तक फैला होने की जानकारी सामने आई है। गिरोह में कई सदस्य व दलाल हैं। जो बीएएमएस छात्रों को अच्छे नंबरों से पास कराने का लालच देकर अपने जाल में फंसाते थे।

BAMS की कापियों को बदलने का मामला 27 अगस्त को सामने आया था

डा. भीमराव आंबेडकर विवि की बीएएमएस (Bams) की परीक्षा में कापियां बदलने का मामला 27 अगस्त को सामने आया था। हरीपर्वत थाने में प्राथमिकी लिखी गई थी। जिसमें पुलिस ने टेंपो चालक देवेंद्र को गिरफ्तार कर जेल भेजा। इसके बाद डाक्टर अतुल यादव को पकड़ा गया था।

ये भी पढ़ें... Ankita Murder Case: नहर में डूबने से पहले छटपटाती रही अंकिता, कहती रही मुझे बचा लो, पर हत्यारे छलकाते रहे जाम

मामला मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ तक पहुंचने के बाद शासन ने पूरे प्रकरण की जांच विशेष कार्य बल (एसटीएफ) को सौंपी गई है। एसटीएफ ने अपनी प्रारंभिक जांच में बीएएमएस के अलावा एमबीबीएस, बी.फार्मा, बीएससी नर्सिंग समेत अन्य परीक्षाओं में भी धांधली की आशंका जताई है।

अब तक इनकी हुई गिरफ्तारी

मामले में छह सितंबर को हरीपर्वत थाने में दूसरी प्राथमिकी लिखी गई है। जांच में एक दर्जन से अधिक ऐसे छात्रों को चिन्हित किया गया था, जिनकी उत्तर पुस्तिकाओं में हस्तलेख हर परीक्षा में अलग मिले थे। एसपी सिटी विकास कुमार ने बताया कि इंस्पेक्टर अरविंद कुमार के नेतृत्व में पुलिस गिरोह को बेनकाब करने में जुटी है, साक्ष्यों के आधार पर दो अन्य आरोपितों दुर्गेश ठाकुर निवासी परसाईपुर नहौरा थाना जलालपुर जौनपुर और पुनीत निवासी नमैनी थाना कोतवाली कासगंज को गिरफ्तार किया है।

ये भी पढ़ें... Agra Places To Visit: सस्ते में ताजमहल देखना है तो आइये यहां, बेहद खूबसूरत है मेहताब बाग, नाइट व्यू की टिकट है कम

पुनीत है साल्वर, राहुल पाराशर की विवि में पैठ

एसपी सिटी विकास कुमार ने बताया कि पुनीत गिरोह का साल्वरहै। वह अन्य परीक्षार्थियों की उत्तर पुस्तिका लिखता था। आरोपित ने पूछताछ में बताया कि उसे प्रश्नपत्र मोबाइल पर भेज दिया जाता था। उत्तर पुस्तिका भी उपलब्ध कराई जाती थी। वह हर बार अलग-अलग ठिकानों पर बैठकर उन्हें लिखता था। जिससे किसी को शक न हो। गिरोह में उसकी तरह कई साल्वर हैं।

गिरोह का दलाल छात्रों को नंबर बढ़वाने का देता था लालच

एसपी सिटी के अनुसार दूसरा आरोपित दुर्गेश ठाकुर गिरोह का दलाल है। वह छात्राें को नंबर बढ़वाने का लालच देकर अपने जाल में फंसाता था। दुर्गेश ने पुलिस को पूछताछ में बताया कि गिरोह में राहुल पाराशर, डा. अशरफ, जयंत, रंजीत एवं जयंत समेत कई लोग हैं। छात्र नेता राहुल पाराशर की विवि के कर्मचारियों में काफी पैठ है, एजेंसी भी उसकी अच्छी पहचान है।जिसके चलते वह सारे काम करा लेता था। 

Edited By: Abhishek Saxena

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट