आगरा, जागरण संवाददाता। आगरा की बेटी वसुंधरा एसएसबी के तहत भारतीय सेना में ऑफिसर पद पर चयनित हुई हैं। जहां उन्होंने एसएससी डब्लू टेक (शॉर्ट सर्विस कमीशन वुमेन) में ऑल इंडिया पहली रैंक प्राप्त कर आगरा का नाम रोशन किया है। जिसे लेकर परिजनों के साथ आगरा वासियों में खुशी की लहर है।

वसुंधरा सिंह ने बताया कि उनका बचपन से ही सेना में जाने का सपना था। देश के लिए कुछ कर गुजरने की इच्छा थी। जिसकी प्रेरणा उन्हें अपने पिताजी अनिल चाहर से मिली। दरअसल वसुंधरा के पिताजी ने धौलपुर के मिलिटरी स्कूल से पढ़ाई की है। उनके कई साथी सेना में अपनी सेवायें दे रहे है। इसीलिए वह अपनी बेटी को शुरू से ही सेना में जाने के लिए प्रेरित करते थे। उन्होंने आगे बताया कि उनकी इस सफलता के पीछे उनकी मेहनत के साथ साथ सही दिशा निर्देश हैं जो उन्हें दयालबाग एजूकेशनल इंस्टीट्यूट और द सेना अभ्यास एजुकेशन सेंटर से मिले। डीईआई इंजीनियरिंग संस्था के डीन एके सक्सेना ने उन्हें हर मोर्चे पर मार्ग दर्शक की तरह राह दिखाई। जहां रिटायर्ड ब्रिगेडियर मनोज शर्मा ने उन्हें फिसिकली और मेंटली परिपक्व बनाया और पौधे की तरह सींचा। उन्होंने बताया कि वह बिना गेप के नियमित तौर पर हर रोज़ घण्टो पढ़ाई के साथ हर रोज पांच किमी दौड़ के साथ शारीरिक व्यायाम करती थी। वहीं सोशल मीडिया पर भी वह शिक्षा से जुड़े पेज ब्लॉग एवं चैनल के माध्यम से पढ़ाई किया करती थी। उसी का परिणाम है की आज उनका सपना साकार हुआ है। ब्रिगेडियर मनोज शर्मा ने वसुंधरा की मेहनत, चिंतन और एकाग्रता की तरीफ करते हुए उज्ज्वल भविष्य का शुभाशीष दिया तथा सेना अभ्यास के डायरेक्टर तर्ष वशिष्ठ ने हर कदम पर वसुंधरा के सपनों का साकार करने में मदद की। वहीं अध्ययनरत अन्य छात्रों को एग्जाम क्रेक करने के टिप्स दिए। 

Edited By: Tanu Gupta