मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

आगरा, जागरण संवाददाता। ऋषिकेश और हरिद्वार से तीर्थ करके लौटी सास को बहू घर में नहीं घुसने दे रही। वह एक सप्ताह से थाने और अधिकारियों के चक्कर काट रही है।

जगदीशपुरा के अवधपुरी क्षेत्र निवासी 75 वर्षीय महिला के पति पूर्व फौजी थे। पति की 14 वर्ष पहले मौत हो गई। महिला ने इकलौते बेटे की शादी करने के बाद मकान उसके नाम कर दिया। वह बहू-बेटे के साथ रहने लगी। बहू ने अपने पति के खिलाफ दहेज का मुकदमा दर्ज करा दिया। वह मायके में जाकर रहने लगी। सास नाती-नातिन के भविष्य के लिए बहू को मनाकर घर ले आई। एक महीने पहले वह ऋषिकेश और हरिद्वार तीर्थ पर गई थी। वृद्धा के अनुसार एक सप्ताह पहले लौटी तो बहू ने घर में नहीं घुसने दिया। उसने बेटे के बिना घर में आने की शर्त रख दी। सास ने एसएसपी के यहां शिकायत की। उन्हें वहां से थाने भेज दिया। शुक्रवार को थाने पहुंची सास का कहना था कि शनिवार को उसे पति का श्रद्ध करना है। बहू धमकी दे रही है कि घर में घुसी तो खुदकशी कर लेगी। पुलिस भी खुद को असहाय पा रही है।

ससुर की गिरफ्तारी को धरने पर बैठी बहू

जगदीशपुरा क्षेत्र निवासी युवती ने आठ महीने पहले प्रेम विवाह किया था। ससुराल वालों ने दहेज के लिए उसका उत्पीड़न शुरू कर दिया। वो तीन महीने से पति के साथ किराए पर अलग रहने लगी। ससुरालवाले पति को बहाने से साथ ले गए और कहीं गायब कर दिया। बहू का आरोप है कि 29 जून को ससुर उसके कमरे पर आया और उससे दुष्कर्म किया। मुकदमा दर्ज होने के बाद भी पुलिस ससूर को गिरफ्तार नहीं कर रही। इससे क्षुब्ध होकर बहू पार्क में धरने पर बैठ गई। उसका कहना है कि ससुर की गिरफ्तारी के बाद वह धरने से उठेगी।

 

Posted By: Tanu Gupta

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप