आगरा, आगरा। लॉकडाउन में शातिरों ने अपनी कमाई का जरिया बंद न होने देने के लिए नए फंडे अपना लिए हैं। अब लिंक भेजकर खाते से रकम पार की जा रही है। न्यू आगरा क्षेत्र की एक कार कंपनी के कर्मचारी को साइबर शातिरों ने लिंक भेजकर जाल में फंसा लिया। इसके बाद उसके खाते से सात हजार रुपये पार कर दिए। इसी तरह शराब उपलब्‍ध कराने के नाम पर भी तमाम लोगों से ठगी की जा रही है।

कंपनी में पुरानी कारों की बिक्री की जाती है। कर्मचारी दयालबाग का रहने वाला है। शुक्रवार को कर्मचारी के मोबाइल पर एक कॉल आई। कॉल करने वाले ने कहा कि सस्ती कार लेना चाहते हैैं। इस पर कर्मचारी ने दो से तीन लाख रुपये वाली कार बता दीं। 20 हजार रुपये एडवांस देने के नाम पर उसने लिंक भेजा। उसने कहा कि इस पर क्लिक करते ही खाते में बीस हजार पहुंच जाएंगे। कर्मचारी के क्लिक करते ही उसके खाते से सात हजार रुपये पार हो गए। उसके खाते में इतनी ही रकम थी। कर्मचारी ने साइबर सेल में शिकायत की है।

शराब शोरूम के फोटो दिखाकर ठगी

लॉकडाउन में पूरे देश में शराब की बिक्री प्रतिबंधित है। शराब के शौकीनों का घर में बंद रहकर समय नहीं कट रहा। इसी स्थिति का लाभ शातिर भी उठा रहे हैं। फेसबुक पर शराब शोरूम का फोटो डालकर उसमें भरपूर स्‍टॉक की उपलब्‍धता दिखा रहे हैं। साथ ही उस पर अपना नंबर देकर शहर के अलग-अलग इलाकों में होम डिलीवरी की सुविधा भी दे रहे हैं। पेमेंट के ऑप्‍शन में कैश ऑन डिलीवरी, पेटीएम और गूगल पे है। लेकिन जब इन्‍हें फोन करेंगे तो यह आर्डर का आधा पेमेंट पेटीएम पर ट्रांसफर करने की बात कहेंगे, आधा शराब सप्‍लाई होने के वक्‍त। जैसे ही लोग इस पर आधा अमाउंट ट्रांसफर कर रहे हैं, वैसे ही ठग अपना नंबर बंद कर लेते हैं। लोग शिकायत भी इस डर से नहीं कर पा रहे कि वे भी फंसेंगे कि उन्‍होंने आखिर लॉकडाउन में शराब का आर्डर दिया ही क्‍यों। 

Posted By: Prateek Gupta

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस