आगरा, जागरण संवाददाता। अगर आप किसी से ऑनलाइन पेमेंट ले रहे हैं तो सावधान हो जाइए। मैसेज पर रेस्पोंस करने से पहले उसको पूरा अच्छी तरह पढ़ लें। अब साइबर शातिरों ने खातों से रकम पार करने का नया तरीका अपना लिया है। वे आपकी एक क्लिक पर ही खाते से रकम पार कर सकते हैं। साइबर सेल में पिछले कुछ दिनों में इस तरह के कई मामले आ चुके हैं। दिनों-दिन इनकी संख्या बढ़ रही है।

बाइपास रोड स्थित एक ऑटो मोबाइल कंपनी के मैनेजर पर कुछ दिन पहले एक अंजान नंबर से कॉल आई। कॉल करने वाले ने कहा कि उसे गाड़ी खरीदनी है। बीस हजार रुपये गूगल पे से वह खाते में ट्रांसफर कर देगा। उसकी बातों को सही मानकर मैनेजर ने अपने खाते की डिटेल दे दी। शातिर ने उनके मोबाइल पर एक लिंक मैसेज किया। इस पर ओके करते ही खाते से बीस हजार रुपये निकल गए।

इसी तरह एक बाइक शोरूम के कर्मचारी को कॉल करके शातिरों ने बाइक बुक करने को कहा। उनसे भी फोन पे से खाते में ऑनलाइन रकम ट्रांसफर करने को कहा। मोबाइल पर भेजे मैसेज पर क्लिक करते ही उनके खाते में रुपये आने के बजाय खाते से रकम कम हो गई। कई और ऑटो मोबाइल कंपनी के कर्मचारियों से इसी तरह ठगी हो चुकी हैं। इनकी शिकायतें साइबर सेल में पहुंची हैं। पुलिस मामले की जांच कर रही है। गिरोह ट्रेस करने के प्रयास किए जा रहे हैं।

ऐसे करते हैं रकम पार

शातिर फोन पर किसी गाड़ी या अन्य वस्तु का सौदा करते हैं। इसके बाद ऑनलाइन एडवांस पेमेंट के नाम पर संबंधित व्यक्ति के खाते की डिटेल हासिल कर लेते हैं। उसके मोबाइल पर एक लिंक मैसेज करते हैं। फोन पे, गूगल पे और पेटीएम में रिक्वेस्ट मनी फीचर है। इसकी मदद से किसी के खाते में रकम जमा भी कर सकते हैं और उससे निकाल भी सकते हैं। मनी रिक्वेस्ट के नीचे ओके का ऑप्शन होता है। इस पर क्लिक करते ही खाते से निकल जाती है। लोगों को भ्रमित करने के लिए शातिर रिमार्क की जगह खाते में रकम जमा होने का फर्जी मैसेज लिखते हैं।

ये बरतें सावधानी

साइबर सेल प्रभारी अमित कुमार ने बताया कि ऑनलाइन भुगतान लेने या देने से पहले मैसेज को अच्छी तरह पढ़ लें। अगर उस पर लिखी भाषा समझ में न आए तो रेस्पोंस न करें। यदि मैसेज में कोई लिंक दिया है तो कभी उस पर क्लिक न करें।  

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Tanu Gupta