आगरा, जागरण संवाददाता। कभी-कभी ज्‍यादा सावधानी भी भारी पड़ जाती है। कहीं मेहनत की रकम चोरी न चली जाए, इसके लिए महफूज सी जगह देखकर छिपाकर रख दी और उसके बाद जरा सी चूक ने करीब 40 हजार रुपये के करारे नोट आंखों के सामने छोटे-छोटे टुकड़ों में तब्‍दील हो गए। जिस किसान दंपती के साथ ये हुआ, उसकी आंखों में आंसू हैं और दिल में पछतावा।

मामला आगरा के पास बरहन कस्‍बे का है। यहां चोरी के डर से करब में छिपाकर रखे गए 41550 रुपये गुरुवार को देखते ही देखते कागज के टुकड़ों में तब्दील हो गए। हुआ यूं कि बरहन के नगला हरदासी निवासी किसान राजकुमार उर्फ काले अपने रिश्तेदार के खाली प्लाट में पशुओं को बांधते हैं। पास ही अलग मकान में रहते हैं। राजकुमार के मुताबिक बीते बुधवार को वह पशु पैंठ में एक भैंस बेचकर आए थे। उसकी कीमत 41550 रुपये मिली। उन्होंने चोरी के डर से रुपये प्लाट में रखी करब में छिपा दिए थे। गुरुवार सुबह राजकुमार आलू के खेत में सिंचाई के लिए चले गए। दोपहर में करब की कुटाई करने वाला आ गया। पत्नी ने प्लाट में रखी करब उसे दी। जब थ्रेसर से करब की कुटाई होने लगी तो 500-500 और दो हजार के नोट हवा में कागज के टुकड़ों की तरह उडऩे लगे। यह देख पत्नी अनीता को रुपयों का ध्यान आया। जब तक उन्होंने थ्रेसर बंद कराया, तब तक सारे नोट कट चुके थे। इसकी जानकारी पर तमाम किसान वहां पहुंच गए। पूरे इलाके में इस घटना की ही चर्चा है।  

Posted By: Prateek Gupta

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस