आगरा, जागरण संवाददाता। शाहगंज के प्रकाश नगर इलाके में पांच और दो साल के दो बच्चों की शनिवार को अचानक मौत हो गई। दोनो सेज भाई थे खांसी, जुकाम और बुखार से पीड़ित थे। स्वजनों के थाने पर जानकारी देने पर पुलिस ने स्वास्थ्य विभाग की टीम को सूचना देकर मौके पर बुला लिया। जांच में बच्‍चों मेें

कोरोना वायरस के लक्षण नहीं पाए गए। परिजनों से और इलाज करने वाले डॉक्‍टर से बच्‍चों की केस हिस्‍ट्री स्‍वास्‍थ्‍य विभाग की टीम ने ली। जांच में पता चला कि बड़ा भाई करीब एक माह से पीलिया और छोटा यूरिन इंफेक्‍शन से पीडि़त था। स्‍वास्‍थ्‍य विभाग द्वारा कोरोना वायरस के लक्षण नहीं होने की पुष्टि की। इसके बाद ही पुलिस ने दोनों बच्‍चों के शव पोस्‍टमार्टम के लिए भेजे। 

प्रकाश नगर निवासी श्रमिक के पांच साल के बेटे को 6-7 दिन से खांसी जुकाम और बुखार आ रहा था। पिता पास के ही एक डॉक्टर से उसका इलाज करा रहा था। तीन दिन पहले ही दी साल के मासूम बेटे को भी बुखार हो गया। उसका भी पिता डॉक्टर से इलाज करा रहे थे।

शनिवार को दोपहर को 12 बजे बड़े बेटे की मौत हो गई। इसके 30 मिनट्स के अंदर ही कहते बेटे ने भी दसम तोड़ दिया। इससे परिवार में कोहराम मच गया। बस्ती के लोगों में भी दहशत फैल गई। स्वजनों ने पुलिस को मामले की जानकारी दी। पुलिस ने बस्ती के लोगों को मृतक के घर से दूर रहने की हिदायत दी। इसके साथ ही स्वास्थ्य विभाग की टीम को सूचना दी गई। जिससे की बच्चों की मौत का कारण पता किया जा सके। बता दें कि आगरा में कोरोना वायरस से संक्रमित अब तक दस लोग मिल चुके हैं। ऐसे में प्रशासन विशेष सतर्कता बरत रहा है। खांसी, जुकाम और बुखार के लक्षणों को स्‍वास्‍थ विभाग गंभीरता से ले रहा है। विशेषज्ञों के अनुसार खांसी, बुखार और जुकाम के लक्षण कोरोना वायरस के प्रारंभिक लक्षण हैं। बच्‍चों की मौत के कारण की जांच स्‍वास्‍थ्‍य विभाग की टीम गंभीरता और एहतियात से कर रही है। स्‍थानीय लोग लॉकडाउन को लेकर पहले ही दहशत में हैं। अब बच्‍चों की अचानक हुई मौत से पूरे क्षेत्र मेें सनसनी फैल गई। 

Posted By: Tanu Gupta

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस