आगरा, जागरण संवाददाता। डा. भीमराव आंबेडकर विश्वविद्यालय में कोरोना प्रोटोकाल की धज्जियां उड़ाई जा रही हैं। सबसे ज्यादा नियमों की अनदेखी कर्मचारियों द्वारा की जा रही है। न तो मास्क ही लगा रहे हैं और न ही अपने विभागों में शारीरिक दूरी का पालन ही करवा रहे हैं। छोटे-छोटे कमरों में अपना काम करवाने आए छात्र एक-दूसरे से चिपक कर खड़े दिखाई दे जाते हैं।

विश्वविद्यालय परिसर में कुलपति के संक्रमित होने के बाद सख्ती अपनाई गई। गेटों पर सुरक्षाकर्मियों को निर्देश दिए गए कि बिना मास्क के किसी को भी परिसर में प्रवेश न दिया जाए। इस सख्ती का पालन सुरक्षाकर्मियों द्वारा एक ही गेट पर किया जा रहा है। बिना गेट पास के किसी भी को प्रवेश नहीं दिया जा रहा है। वहीं, केएमआइ के सामने वाले गेट पर सख्ती नहीं दिखाई दे रही है। विभागों के अंदर की स्थिति ज्यादा खराब है। एक-दूसरे से चिपक कर खड़े अधिकतर छात्रों के मास्क नाक से नीचे होते हैं। अधिकतर कर्मचारी मास्क लगाते ही नहीं हैं। जबकि, कुलसचिव द्वारा स्पष्ट निर्देश दिए गए थे कि कोरोना प्रोटोकाल का सख्ती से पालन करना है। समय के साथ यह सख्ती हवा में उड़ गई। गेटों पर लगी सैनिटाइजर टनल अभी तक ठीक नहीं कराई गई हैं।

परीक्षा से एक दिन पहले खुला लागइन कोड, परीक्षा से पहले मिलेंगे एडमिट कार्ड : डा. भीमराव आंबेडकर विश्वविद्यालय के ललित कला संस्थान के कई पाठ्यक्रमों की सेमेस्टर परीक्षाएं बुधवार से शुरू हो रही हैं। परीक्षा से एक दिन पहले लागइन खुला, लेकिन फीस भरने का लिक दोपहर बाद शुरू हो सका। छात्रों को एडमिट कार्ड भी परीक्षा से पहले दिए जाएंगे।

ललित कला संस्थान में संचालित बीएफए, एमएफए, डिप्लोमा इन फोटोग्राफी, डिप्लोमा इन पेंटिग, बीएफए इन म्यूजिक व एमएफए इन म्यूजिक के दिसंबर 2020 की सेमेस्टर परीक्षाएं बुधवार से शुरू हो रही हैं। यह परीक्षाएं दो पालियों में दस अप्रैल तक चलेंगी। इन पाठ्यक्रमों के लागइन कोड मंगलवार को छलेसर परिसर में एजेंसी से खुलवाए गए। एजेंसी ने पाठ्यक्रमों के लागइन कोड न होने की बात कहकर रोक लगाई हुई थी। संस्थान द्वारा पुराने सालों का हवाला देते हुए लॉगइन कोड खुलवाए गए।दोपहर तक छात्र अपनी फीस भरने के लिए संस्थान के चक्कर काटते रहे क्योंकि आनलाइन फीस जमा करने का लिक ही नहीं खुल रहा था।सारी समस्याओं को दूर कराते हुए शाम तक छात्रों की फीस और फार्म भरे गए। एडमिट कार्ड बुधवार को परीक्षा शुरू होने से पहले जारी किए जाएंगे। परीक्षाओं में लगभग 200 छात्रों ने फार्म भरे हैं। संस्थान की निदेशक डा. इंदू जोशी ने बताया कि लिखित परीक्षा के तुरंत बाद प्रयोगात्मक परीक्षाएं शुरू कराने की योजना है।

Edited By: Jagran