आगरा, जागरण संवाददाता। थाना एत्माद्दौला क्षेत्र में रहने वाले एक सिपाही पर एक युवती को परेशान करने का आरोप लग गया है। सिपाही के खिलाफ थाने में प्रार्थना पत्र भी दिया गया है। क्योंकि मामला पुलिस विभाग से जुड़ा हुआ था तो मामले को दबाने का प्रयास किया गया। जिसके बाद महिला ने इस शर्त पर प्रार्थना पत्र वापस ले लिया कि उक्त सिपाही अब उस थाने में काम नहीं करेगा। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ने आज सुबह सिपाही का ट्रांसफर जिले के दूसरे थाने में कर दिया।

मामले के अनुसार थाना एत्माद्दौला क्षेत्र में रहने वाली एक युवती के घर पर सिपाही किराए पर रहता था। कुछ दिन पूर्व विवाद होने पर युवती ने उससे मकान खाली करवा लिया। युवती का आरोप है कि सिपाही इसी बात को लेकर रंजिश मानने लगा। सिपाही पर आरोप है कि उसने मकान मालिक की बेटी को गुरुवार को परेशान किया। इससे  पहले भी उसने पुत्री को परेशान किया था। जिसके चलते उससे मकान खाली कराया गया था। मामला तूल पकड़ गया। इसके बाद युवती ने थाना एत्माद्दौला में गुरुवार को एक प्रार्थना पत्र दे दिया। प्रार्थना पत्र में सिपाही पर आरोप लगाते हुए पुत्री के साथ परेशान करने के तहत दिया गया। प्रार्थना पत्र सिपाही के खिलाफ आते ही थाने में हड़कंप मच गया। युवती को बैठा कर थाना अध्यक्ष ने काउंसलिंग की। करीब 2 घंटे की काउंसलिंग के बाद युवती इस बात पर राजी हो गई कि सिपाही को थाने से हटा दिया जाए। सिपाही की बात को मानकर थानाध्यक्ष ने सिपाही को बुलाकर उसे हिदायत दी।  साथ ही शिकायत करने पर वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ने सिपाही को हटाकर शहर के ही मनसुखपुरा थाने उसका ट्रांसफर कर दिया।  सिपाही का ट्रांसफर होने के बाद अब युवती ने राहत की सांस ली है। 

Edited By: Tanu Gupta