आगरा, जागरण संवाददाता। स्वास्थ्य विभाग की टीम को देख गुरुवार को झोलाछाप मरीज को क्लीनिक में बंद कर भागने लगा। उसे पुलिस की मदद से पकड़ लिया, मरीज को ड्रिप चढ़ रही थी। टीम ने क्लीनिक को सील कर दिया।

नोडल अधिकारी डॉ. अजय कपूर ने बताया कि एसीएम द्वितीय और पुलिस के साथ टेढ़ी बगिया सब्जी मंडी स्थित झोलाछाप मुकेश कुमार के क्लीनिक पर छापा मारा। वह टीम को देख क्लीनिक का शटर बंद कर भागने लगा, पुलिस की मदद से उसे पकड़ लिया। क्लीनिक का शटर खोला तो अंदर एक मरीज के ड्रिप चढ़ रही थी। मरीज के हाथ से ड्रिप निकालने के बाद बीमारी के बारे में पूछा, उन्होंने बताया कि कमजोरी होने पर ड्रिप लगाई है। क्लीनिक से बड़ी मात्रा में इस्तेमाल किए हुए ड्रिप सेट, सिरिज और इंजेक्शन मिले हैं। वह खुद को इंटर पास बता रहा था। टीम ने क्लीनिक सील कर दिया है। पूछताछ में सामने आया है कि झोलाछाप के खिलाफ हो रही कार्रवाई के बाद से मुकेश कुमार दिन में क्लीनिक बंद रखता था। शाम पांच बजे क्लीनिक खोल कर मरीजों का इलाज कर रहा था। पकड़ने के बाद छोड़ा, दर्ज नहीं कराया मुकदमा

स्वास्थ्य विभाग की टीम ने पुलिस की मदद से झोलाछाप को पकड़ लिया, उसने मरीज के ड्रिप लगाने की बात स्वीकार की। मगर, उसके खिलाफ मुकदमा दर्ज नहीं कराया गया। नोडल अधिकारी डॉ. अजय कपूर का कहना है कि शुक्रवार को मुकदमा दर्ज कराया जाएगा। पांच दिन पहले टीम को गुमराह कर भाग निकला

मुकेश कुमार की कई दिनों पहले शिकायत मिली थी, पांच दिन पहले खंदौली में कार्रवाई कर लौटते समय टीम झोलाछाप मुकेश कुमार के क्लीनिक पर पहुंची। वह क्लीनिक पर बैठा हुआ था, उससे मुकेश कुमार के बारे में पूछा, टीम को उसने बताया कि क्लीनिक बंद कर दिया है, यह कहकर वहां से चला गया। सब्जी मंडी के दुकानदार ने बताया कि जिससे पूछ रहे थे वही झोलाछाप मुकेश कुमार था।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप