आगरा, जागरण संवाददाता। शाहगंज निवासी किशन लाल ने वोटर कार्ड बनवाने के लिए दिसंबर 2019 के पहले सप्ताह में आवेदन किया था। फिर इसकी शिकायत संपूर्ण समाधान दिवस में की, लेकिन आजतक वोटर कार्ड बनकर नहीं मिला है। शहर में किशन लाल ऐसे अकेले नहीं हैं, बल्कि पांच हजार से अधिक लोग ऐसे हैं जिन्हें अभी तक कार्ड बनकर नहीं मिले हैं। ऐसे लोग तहसील सदर और कलक्ट्रेट के चक्कर लगा रहे हैं।

जिले में साढ़े 33 लाख वोटर हैं। निर्वाचन आयोग के आदेश पर दिसंबर 2019 से जनवरी 2020 तक विशेष मतदाता पुनरीक्षण अभियान चलाया गया। 50 हजार के करीब वोटर बने। बड़ी संख्या में लोगों के वोटर कार्ड बनकर आ गए हैं, लेकिन कुछ ऐसे भी लोग हैं जिन्होंने इससे पूर्व आवेदन किया था, मगर अभी तक कार्ड बनकर नहीं आए हैं।

त्रुटियां भी कम नहीं

मतदाता सूचियों के पुनरीक्षण अभियान के चलने के बाद भी वोटर आईडी कार्ड्स में त्रुटियाेें की भरमार है। किसी में पता गलत है तो कहीं भाग संख्‍या गलत। कइयों में नाम और पिता के नाम में भी गड़बडि़यां हैं। सदर तहसील में बड़े पैमाने पर लोग अपना वोटर कार्ड सही कराने भी पहुंच रहे हैं।

जनवरी के पहले सप्ताह में वोटर कार्ड के लिए आवेदन किया था। आजतक बनकर नहीं मिला है।

विमला देवी, सिकंदरा

छह दिसंबर 2019 को वोटर कार्ड के लिए आवेदन किया था। एक बार संपूर्ण समाधान दिवस में शिकायत की जा चुकी है।

एसके बघेल, बिचपुरी गांव

वोटर कार्ड के लिए पांच नवंबर 2019 को आवेदन किया था। आजतक यह बनकर नहीं मिला।

रश्मि चंदेल, बरौली अहीर

कुछ लोगों के वोटर कार्ड बनकर न मिलने की शिकायतें मिली हैं। जल्द इनके कार्ड बनेंगे।

रमेश चंद्र, एडीएम वित्त एवं राजस्व  

Posted By: Prateek Gupta

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस