आगरा, जागरण संवाददाता मौसम बदलने से बच्चो में निमोनिया का खतरा बढ़ गया है। वहीं, हृदय रोगियों का ब्लड प्रेशर बढ़ने लगा है। सांस संबंधी बीमारियों से पीड़ित मरीज तबीयत बिगड़ने पर अस्पताल पहुंच रहे हैं। बुधवार को एसएन मेडिकल कालेज और निजी अस्पतालों की ओपीडी में निमोनिया, सांस बीमारी और हृदय रोगियों की संख्या अधिक रही।

सर्दी बढ़ने और धुंध छाने से बच्चों को परेशानी होने लगी है। शादी समारोह भी चल रहे हैं। ऐसे में सर्दी लगने और ठंडे पेय पदार्थ का सेवन करने से बच्चों को निमोनिया की समस्या हो रही है। एसएन मेडिकल कालेज के बाल रोग विशेषज्ञ डा. नीरज यादव ने बताया कि ओपीडी में 76 मरीज आए, इनमें 20 बच्चों को निमोनिया की समस्या थी। मेडिसिन की ओपीडी में 292 मरीजों को परामर्श दिया गया। मेडिकल कालेज के मेडिसिन विभाग के डा. मनीष बंसल ने बताया कि सर्दियों में ब्लड प्रेशर बढ़ जाता है। इससे ओपीडी में हृदय रोगी दवा लेने के बाद भी ब्लड प्रेशर बढ़ने की समस्या के साथ आ रहे हैं। इनकी डोज बढ़ाई जा रही है। टीबी एंड चेस्ट डिपार्टमेंट के डा. गजेंद्र विक्रम सिंह ने बताया कि धुंध छाने से अस्थमा रोगियों को सांस लेने में परेशानी और अस्थमा अटैक का खतरा बढ़ गया है। इनकी दवा की डोज बढ़ानी पड़ रही है। ये बरतें सावधानी

ठंडे पेय पदार्थ, आइसक्रीम का सेवन न करें

अस्थमा और सांस संबंधी बीमारियों से पीड़ित मरीज धूप निकलने पर ही घर से बाहर निकलें

हृदय रोगी अपने ब्लड प्रेशर की जांच कराते रहें

घर के बने हुए खाद्य पदार्थ का सेवन करें

घर से बाहर जाने पर मास्क पहनें एसएन की ओपीडी में परामर्श लेने पहुंचे मरीज

मेडिसिन - 292

अस्थि रोग -173

चर्म रोग - 169

टीबी एंड चेस्ट -140

नेत्र रोग -95

बाल रोग -76

Edited By: Jagran