आगरा, जागरण संवाददाता। बैंकों से 61 लग्जरी कारों के नाम पर फर्जी लोन कराके आठ करोड़ रुपये हड़पने वाले नटवरलाल को एसटीएफ और न्यू आगरा पुलिस ने शनिवार रात नोएडा से गिरफ्तार कर लिया। उसके खिलाफ विभिन्न थानों में धोखाधड़ी के सात मुकदमे दर्ज हैं। दर्जनों लोगों से ठगी का आरोपित 25 हजार रुपये का इनामी है।

पुलिस के अनुसार नाई की मंडी की पॉश बैंक हाउस कॉलोनी निवासी रजत कुलश्रेष्ठ ने वर्ष 2013 से 2016 के दौरान आठ करोड़ की धोखाधड़ी की। पुलिस की पूछताछ में शातिर रजत ने बताया कि वह बारहवीं पास है। उसने सात साल पहले संजय प्लेस में हैंडी क्राफ्ट का शोरूम खोला था। अपने अकाउंटेंट मयंक अग्रवाल के माध्यम से उसकी मुलाकात बैंक अधिकारियों से हुई। उनके संपर्क में आकर उसने कार लोन की बारीकी को समझा।

रजत ने जेआर ऑटोमोटिव नोएडा के नाम से फर्जी कंपनी बनाई। इसका कार्यालय सीपी मार्केट, अंसल प्लाजा तुगलक रोड, ग्रेटर नोएडा दिखाया। इसमें वाहनों का इंश्योरेंस करने वाले शाहगंज निवासी मोहित जैन को शामिल किया। कंपनी का खाता एचडीएफसी बैंक में खोला गया। बैंक में सिग्नेचरी अथॉरिटी मोहित जैन था।

रजत ने जेआर ऑटोमोटिव की वेबसाइट बनाई थी। इसकी फोन कनेक्टिविटी देकर बैंकों को रिप्लाई करने के लिए स्टाफ रखा हुआ था। शातिर ने परिचितों से कार लोन के नाम पर ठगी का खेल शुरू किया। कंपनी के फर्जी कुटेशन एवं गाड़ियों को खरीदने के बिल बैंकों में जमा कराए। लोन करने वाले बैंकों से कंपनी से जो भी जानकारी की जाती, स्टाफ मेल के माध्यम से जवाब देता। इससे बैंकों को जल्दी शक नहीं होता। शातिर ने कंपनी के नाम पर 61 से अधिक लग्जरी कारों के नाम पर आठ करोड़ रुपये का लोन कराया था। नोएडा एसटीएफ के सीओ राजकुमार मिश्रा की टीम और न्यू आगरा पुलिस ने संयुक्त कार्रवाई करते हुए गिरफ्तार किया। इंस्पेक्टर न्यू आगरा अजय कौशल ने बताया आरोपित को जेल भेजा गया है।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप