आगरा, जेएनएन। एक माह तक रोजे रखकर खुदा की इबादत की। दिन रात बस खुदा का सजदा किया। मंगलवार को ईद के चांद के दीदार के बाद रोजा मुकम्‍मल हुआ। बुधवार सुबह से फिजा में मुबारक मुबारक, ईद मुबारक की आवाज ही गूंजती रही। प्रमुख मस्जिदों में लोगों ने सुबह ईद की नमाज अदा कर अमन और चैन की दुआ की। 

मंगलवार को ईद उल फितर का चांद नजर आया। रातभर बाजारों में लोगों ने खरीददारी की। बुधवार सुबह से मस्जिदों में लोगों ने एक दूसरे को ईद उल फितर की मुबारकबाद दी। मंगलवार शाम को रुवए हिलाल कमेटी ने चांद नजर आने की घोषणा कर दी थी। इसके बाद शाहगंज बाजार, लोहामंडी बाजार, हास्पिटल रोड, सुभाष बाज़ार में खरीदारों की भीड़ पहुंचने लगी। पूरी रात बाजार जगमगाते रहे। जामा मस्जिद, ताजमहल, ईदगाह सहित आगरा की तमाम छोटी बड़ी मस्जिदों पर सफेद लिबास और टोपी में पहुंचे लोगों ने खुदा की बं‍दिगी में सिर झुकाया। ईद को लेकर बच्‍चों में भी खासा उत्‍साह देखने को मिला। छोटे छोटे बच्‍चे जब खुदा की बंदिगी के लिए पहुंचे हर किसी का ध्‍यान उनकी ओर गया।

फतेहपुर सीकरी, फीरोजाबा, मैनपुरी, मथुरा, एटा, कासगंज सहित मंडलभर की मस्जिदों में ईद की नमाज अदा की गई और इसके बाद लोगों ने मीठी सेंवईयों से एक दूसरे का मुंह मीठा कराया। 

मुस्लिम इलाकों में रातभर होती रही तैयारी

चांद देखने के बाद मंटोला, लोहामंडी, शहीद नगर, ताजगंज और नाई की मंडी रातभर रोशनी से जगमगाती रही। ईद का सामान खरीदने के लिए पूरी रात लोगों का आना जाना लगा रहा। सेवई, फैनी और मेवा मिष्टान खरीदते रहे।

खूब चला जकात का सिलसिला

मस्जिदों में जकात सिलसिला देर रात तक जारी रहा। लोग मदरसों के लिए जकात, फितरे की तय राशि निकालते नज़र आए और मस्जिद के लिए इमदाद करते नजर आए।

 

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Tanu Gupta

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस