आगरा, जागरण संवाददाता। जिले में बहुजन समाज पार्टी ने एक बार फिर अपनी ताकत का अहसास कराया है।18 सीटें जीतकर उसने जिला पंचायत अध्यक्ष पद पर भाजपा के मंसूबों पर पानी फेर दिया है। आगरा में जिला पंचायत अध्यक्ष की कुर्सी की राह अब किसी के आसान नहीं रही। इस सीट पर बसपा अपना दावा ठोकने की तैयारी में है।

त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव परिणाम में भाजपा का दावा है कि उसके समर्थन से चुनाव लड़ने वाले 19 प्रत्याशी इस बार चुनाव जीतकर आए हैं। जबकि बसपा खेमे का दावा है कि उसके 18 समर्थित प्रत्याशी चुनाव जीते हैं। कांग्रेस का खाता ही नहीं खुला है। जबकि आम आदमी पार्टी और रालोद के समर्थित एक-एक प्रत्याशी भी चुनाव जीते हैं। बसपा ने भाजपा का गणित ही बिगाड़ दिया है। केंद्र और प्रदेश में सत्ता पर काबिज भाजपा के कई दिग्गज इस बार चुनावी मैदान में थे। उन्हें यह कुर्सी बहुत आसान लग रही थी। मगर,परिणामों ने उनका खेल बिगाड़ दिया है। हालांकि इस अध्यक्ष की कुर्सी को लेकर होने वाले इस पूरे दंगल में सपा कहीं नजर नहीं आ रही। उसके समर्थन से सिर्फ पांच ही प्रत्याशी जीते हैं। ऐसे में अध्यक्ष की कुर्सी को लेकर बसपा और भाजपा में ही कड़ा मुकाबला होता दिख रहा है। इससे पूर्व इस कुर्सी पर सपा का कब्जा था। वर्ष 2017 में प्रदेश में भाजपा की सरकार बनने के बाद तख्ता पलट की तैयारी शुरू हो गई थी। वर्ष 2018 में भाजपा के प्रबल प्रताप ने सपा की कुशल यादव से इस कुर्सी को हथिया लिया था।

 

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप