आगरा, जागरण संवाददाता। एसएन में गंदे नाले के सहारे ऑपरेशन थिएटर (ओटी) के कपड़े और चादरें धुल रही हैं। इससे बारिश में एसएन में भर्ती हो रहे मरीजों में हॉस्पिटल एक्वायर्ड इन्फेक्शन (अस्पातल में भर्ती होने पर फैलने वाला इन्फेक्शन) फैल रहा है। जिस बीमारी से मरीज भर्ती हो रहे हैं, उसके साथ कई अन्य संक्रमण लग रहे हैं। ऐसे में मरीजों को 10 से 20 दिन वार्ड में भर्ती रहना पड़ रहा है।

एसएन परिसर से गंदा नाला गुजर रहा है। इस नाले के बगल में बाल रोग विभाग के पीछे ओटी के कपड़े और चादर की धुलाई होती है। कर्मचारी नाले के बगल में कपड़े और चादरों को धोकर सुखाने डाल देते हैं। पिछले दिनों हुई बारिश से नाले के बाहर गंदगी का ढेर लग गया है। गंदगी के बीच में ही कपड़ों की धुलाई हो रही है। इससे एसएन में भर्ती मरीजों में संक्रमण फैलने लगा है।

एसएन के सर्जरी, मेडिसिन, अस्थि रोग विभाग में भर्ती हो रहे मरीजों में हॉस्पिटल एक्वायर्ड इन्फेक्शन होने लगा है। इन मरीजों में एंटीबायोटिक के काम न करने पर कल्चर कराया जा रहा है। कुछ मरीजों में एंटीबायोटिक रजिस्टेंट मिल रहा है, इसमें भी मिथिलिसीन रजिस्टेंट स्टेप्टोकॉकस ऑरियस के केस देखने को मिल रहे हैं। इन मरीजों को ज्यादा दिन तक भर्ती करना पड़ रहा है। प्रमुख अधीक्षक डॉ. एसके मजूमदार ने बताया कि एसएन गेस्ट हाउस के पीछे नया धोबी घाट बनाया जा रहा है, उसका 75 फीसद काम हो चुका है। इसके साथ ही मैकेनाइज्ड वाशिंग सिस्टम का प्रस्ताव भी शासन को भेजा गया है।

वार्ड में नहीं बदली जातीं चादर

एसएन के वार्ड में मरीजों की चादर भी नहीं बदली जा रही हैं, इसे लेकर आए दिन तीमारदारों का स्टाफ के साथ विवाद हो रहा है।

परिसर और वार्ड में फैला मेडिकल वेस्ट

एसएन परिसर और वार्ड में बायो मेडिकल वेस्ट का सही तरह से निस्तारण नहीं हो रहा है। वेस्ट जगह-जगह बिखरा रहता है, इससे भी इन्फेक्शन फैलने का खतरा है।  

Posted By: Tanu Gupta

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप