आगरा, जागरण संवाददाता। अवैध रूप से बॉर्डर पार कर भारत में दाखिल हुआ बांग्लादेशी परिवार आगरा में झोपड़ी बनाकर रह रहा था। शहर के बाहरी इलाके में रह रहे इस परिवार की खुफिया एजेंसियों को जानकारी हुई। इसके बाद सदर पुलिस ने बांग्लादेशी पति-पत्‍‌नी और बेटे को गिरफ्तार कर लिया। इनसे आगरा के पते का आधार कार्ड भी बरामद हुआ है। एटीएस ने भी पकड़े गए बांग्लादेशियों से कई घंटे पूछताछ की।

बांग्लादेश के जसर में अभोईपुर निवासी 42 वर्षीय सईदुल इस्लाम उर्फ डोनार अपनी पत्‍‌नी 39 वर्षीय मुनारा बेगम और 15 वर्षीय बेटे रविबुल व एक छोटे बेटे के साथ 13 वर्ष पहले भारत आया था। पश्चिम बंगाल से नदी के रास्ते दाखिल हुए थे। चार-पांच दिन कोलकाता में रहने के बाद वे कबाड़ ठेकेदार के बुलाने पर ट्रेन से आगरा आ गए। सदर के रोहता नहर के पास झोपड़ी डालकर रहने लगे। यहां उन्होंने सदर के वेद नगर के पते पर आधार कार्ड भी बनवा लिया। पुलिस और खुफिया एजेंसियों के डर से वे कभी मध्यप्रदेश चले जाते तो कभी यहां आकर रहने लगते।

अब एलआइयू की सूचना पर सदर पुलिस ने तीनों को गिरफ्तार कर लिया। परिवार में एक छोटा बेटा और था। वह बीस दिन पहले ही बांग्लादेश वापस चला गया। बांग्लादेशी परिवार के पकड़े जाने के बाद एटीएस टीम ने भी कई घंटे पूछताछ की। गिरफ्तार बांग्लादेशी नागरिकों के खिलाफ विदेशी अधिनियम के साथ-साथ, कूट रचित दस्तावेज तैयार करना, धोखाधड़ी समेत अन्य धाराओं में मुकदमा दर्ज कर लिया। इंस्पेक्टर सदर कमलेश सिंह ने बताया कि बांग्लादेशी नागरिकों को गिरफ्तार कर उनके खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। अभी उनके अन्य साथियों की तलाश की जा रही है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप