मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

आगरा, जागरण संवाददाता। भाजपा के थिंक टैंक माने जाने वाले दिवंगत पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली ने ताजनगरी के कार्यकर्ताओं को भी संगठन मजबूत करने का मंत्र दिया था। 2014 में जब केंद्र में सरकार बनी तो वह मंत्री बने, लेकिन उससे पहले 2012 में विधानसभा चुनाव हुए। चुनाव से पहले संगठन को मजबूत करने के लिए वह सीधे कार्यकर्ताओं से मुखातिब हुए थे।

विधानसभा चुनाव को लेकर संगठन मजबूत करने की कवायद चल रही थी। सदर के तारघर मैदान पर भाजपा का बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन आयोजित किया गया था। इसका मकसद था कि विधानसभा चुनाव फतेह करने के लिए किस तरीके से बूथों को मजबूत करना है। कार्यकर्ताओं को टिप्स देने के लिए तब खुद अरुण जेटली पहुंचे। राज्यमंत्री डॉ. जीएस धर्मेश तब भाजपा में जिला के महामंत्री थे। वह बताते हैं कि कार्यकर्ताओं से रूबरू होकर अरुण जेटली ने उन्हें बूथ कैसे जीतना है इसके टिप्स दिए। बूथ प्रभारियों से कहा कि बूथ के हर घर में आपकी पकड़ होगी तो निश्चित ही बूथ भी आप ही जीतोगे। इसके लिए जरूरी है कि भाजपा की नीतियां घर-घर बताई जाएं। उस वक्त केंद्र में यूपीए की सरकार थी। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार जिन मोर्चो पर विफल है, उसे भी मतदाताओं तक पहुंचाना होगा।

 

Posted By: Tanu Gupta

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप