आगरा, आदर्श नंदन गुप्त। ताजनगरी के कलाकार मुंबई में फिल्म और टीवी सीरियल के माध्यम से अपनी प्रतिभा प्रदर्शित करते हैं। अपनी कला के माध्यम से देश- विदेश में आगरा का गौरव बढ़ा रहे हैं। इन कलाकारों को अब कोरोना काल में मुश्किलों का सामना करना पड़ा रहा है। मुंबई के बहुत से कलाकारों ने टोल फ्री, अपनी बात, ट्वीटर आदि माध्यमों से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से इस संकट से मुक्ति दिलाने की मांग की है।

आगरा के सैकड़ों युवा मुंबई में फिल्म और टीवी सीरियलों में कलाकार व टेक्नीशियन के रूप में काम कर रहे हैं। पिछले महीने से मुंबई में कोरोना वायरस ने वहां की जिंदगी ही बदहाल कर दी है। इस वजह से वहां बहुत से कलाकारों का जीवन मुश्किल में आ गया है। उन्हेंं आर्थिक संकट से जूझना पड़ रहा है। वे लोग आगरा आना चाहते हैं, लेकिन व्यवस्था नहीं हो पा रही है।

नहीं कर रही यूपी सरकार मदद

तेरा जादू चल गया, बंटी और बबली, सिंह, साहब द ग्रेट जैसी कई फिल्मों में अभिनय कर चुके घटिया आजम खां निवासी सत्यव्रत मुद्गल का कहना है कि अब मुंबई में सितंबर तक कोई शूटिंग होना मुश्किल है। इसलिए उन जैसे तमाम लोग आगरा जाना चाहते हैं, लेकिन यूपी सरकार कोई मदद नहीं कर रही। अन्य प्रांतों की सरकारें तो बसें भेज कर अपने लोगों को बुला रही हैं। आगरा के कलाकारोंं की व्यवस्था के लिए आगरा के जन प्रतिनिधियों को आगे आना चाहिए।

कलाकार आ रहे अवसाद में

मोतीकटरा की अनुराधा शर्मा मुंबई में कई सालों टीवी सीरियलों में विभिन्न भूमिका कर चुकी हैं। इन दिनों वे जीटीवी के शो कुमकुम भाग्य में माया की मां का किरदार निभा रही हैं। उन्होंने प्रधानमंत्री को टोल फ्री नंबर के माध्यम से अपनी बात पहुंचाई है। उन्होंने कहा है कि कई कलाकार डिप्रेशन में भी आ चुके हैं, लेकिन स्वाभिमान के कारण कुछ कह नहीं पा रहे हैं। कलाकारों की फेडरेशन कोई सहयोग नहीं कर रही है। प्रोडक्शन हाउस द्वारा 90 दिन तक पेमेंट करने का प्रावधान है, उसनें भी बहुत से कलाकारों को कोई राहत नहीं दी है। उन्होंने प्रधानमंत्री से मांग की है कि कलाकारों को आर्थिक संकट से जल्द मुक्त कराया जाए। जब भी शूटिंग हो, तब एक महीने में उनका पेमेंट मिल जाए, ऐसा प्रावधान कराना चाहिए।

महाराष्‍ट्र सरकार कर रही भेदभाव

फिल्म निर्देशक व राइटर ट्रांस यमुना कालोनी निवासी सूरज तिवारी ने महाराष्ट्र सरकार पर भेदभाव का आरोप लगाया। कहा कि वह मराठियों का पूरा सहयोग कर रही है, अन्य प्रांतों के लोगों को कोई सुविधा नहीं प्रदान कर रही। .यदि वह चाहे तो कलाकारों का जो पैसा प्रोक्डक्शन हाउस पर फंसा हुआ है, वह दिलवा कर आर्थिक संकट से मुक्त करा सकती है। उन्होंने बताया कि वे एक पत्र मुख्यमंत्री को भी लिख चुके हैं।

अंधेरे में डूबा भविष्‍य

फतेहाबाद रोड निवासी पुष्पित कालरा भी कई फिल्मों में भूमिका कर चुके हैं। उनका कहना है कि अब आगामी प्रोजेक्ट में काफी दिक्कत आएगी, इसलिए भविष्य को लेकर काफी चिंतित हैं। माईथान रहने वाले पंकज शर्मा 10 साल से मुंबई में फिल्म और टीवी सीरियल में रोल कर रहे हैं। वे कहते हैं कि आगरा के कलाकार जल्द ही आगरा आना चाहते हैं। क्योंकि फिर बारिश शुरू हो जाएगी, जिससे आने में दिक्कत होगी। एत्मादपुर निवासी हैरी ठाकुर, बालाजी टेलीफिल्म आदि कई प्रोडक्शन हाउस में कास्टिंग डायरेक्टर रह चुके हैं। उनका कहना है कि वे वेब सीरिज कास्ट कर रहे थे, उसे बीच में ही रोकना पड़ा। अब परेशान हैं, मुंबई से घर जाना चाहते हैं।

न्यू आगरा निवासी अजय पाल सिंह वर्ष 1996 से मुंबई सिनेमैटोग्राफर हैं। पागलपन, उफ क्या जादू मोहब्बत है, किंग आफ बालीवुड, वांटेड, कैश सहित कई फिल्म व विज्ञापन फिल्में शूट की हैं। उनका कहना है कि अभी पता ही नहीं कि शूटिंग कब शुरू होगी। 

Posted By: Tanu Gupta

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस