आगरा, जेएनएन। अलीगढ़ में बेटी के प्रेमी की हत्या करने के बाद एटा के मलावन क्षेत्र में बेटी को गोली मारकर ठिकाने लगाने की कोशिश करने की सनसनीखेज वारदात का थाना मलावन पुलिस ने राजफाश कर दिया। वारदात के मुख्य आरोपित प्रेमिका के माता-पिता को गिरफ्तार करके जब उनसे पूछताछ की गई तो उन्होंने अपना गुनाह कबूल लिया। प्रेमी की हत्या में शामिल रहे लड़की के बड़े मामा और नाबालिग भाई को अलीगढ़ पुलिस गिरफ्तार कर चुकी है, जबकि लड़की को गोली मरने की घटना में शामिल माता-पिता को मलावन पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया, शूटर छोटे मामा की पुलिस को तलाश है। इस तरह से प्रेमिका का पूरा परिवार गिरफ्तार हो चुका है।

मलावन क्षेत्र में गांव बहादुरपुर स्थित नहर पटरी के पास 9 जुलाई की रात मूल रूप से कोतवाली देहात क्षेत्र के गांव बारथर तथा हाल निवासी शहंशाहबाद थाना क्वारसी जनपद अलीगढ़ अफरोज और उसकी पत्नी नूरजहां तथा अफरोज के साले इशाक ने अफरोज की बेटी निशा को गोली मार दी थी। घायल अवस्था में उसने बयान दिया था कि 6 जुलाई की रात उसके परिजनों ने उसके प्रेमी आमिर की अलीगढ़ में पीट-पीटकर हत्या कर दी थी, जिसकी वह चश्मदीद है। कहीं राज न खुल जाए इसलिए उसे भी गोली मार दी और मरा समझकर फेंक दिया। तभी से मलावन पुलिस लड़की के माता-पिता और छोटे मामू इशाक की तलाश कर रही थी। एक सटीक सूचना पर थाना प्रभारी मलावन विपिन त्यागी ने आसपुर-बागवाला रोड पर अफरोज और नूरजहां को गिरफ्तार कर लिया। एसएसपी स्वप्निल ममगाईं ने पत्रकारों को जानकारी देते हुए बताया कि कुल पांच आरोपितों ने अलीगढ़ और एटा की घटनाओं को अंजाम दिया। लड़की को गोली मारे जाने की घटना में उसके माता-पिता व छोटा मामू तथा प्रेमी की हत्या में भी माता-पिता और बड़ा मामू हफीज तथा लड़की का भाई शामिल था। ऑनर किङ्क्षलग की घटना अलीगढ़ में हुई थी। हफीज और लड़की के भाई को अलीगढ़ में गिरफ्तार कर लिया था, जबकि लड़की को गोली मारे जाने की घटना के मैन शूटर छोटा मामू इशाक फरार है। शीघ्र ही उसे भी गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

निशा बोलती रही और पर्दा उठता रहा

प्रेमी की हत्या के बाद बेटी को गोली मारने की घटना का इतनी जल्दी राजफाश इसीलिए हो गया कि एटा पुलिस को पहले दिन ही लड़की के बयान से लीड मिल गई थी कि उसके प्रेमी की भी हत्या अलीगढ़ में हुई है। प्रेमी की हत्या का मुकदमा अज्ञातों के खिलाफ अलीगढ़ के सिविल लाइन थाने में दर्ज हुआ था। उसके दो दिन बाद ही लड़की को एटा के मलावन क्षेत्र में गोली मारी गई। घायल अवस्था में ही लड़की ने घटना की हर परत खोल डाली।

मलावन पुलिस ने लड़की निशा को जब जिला अस्पताल में भर्ती कराया तो डाक्टर उसे बार-बार रेफर करने की सलाह दे रहे थे, लेकिन पुलिस ने यहां तत्परता दिखाई और बयान दर्ज कराने के लिए मजिस्ट्रेट को बुला लिया। उन बयानों में निशा ने सब कुछ बता दिया था। बस यहीं से ऑनर किङ्क्षलग की घटना का राजफाश हो गया। अगर निशा अपने माता-पिता का पक्ष लेकर चुप्पी साध जाती तो हो सकता है कि घटना का देर से राजफाश हो पाता।

मां की आंखों में आंसू, बाप बोला गलती हो गई

निशा के मां-बाप को गिरफ्तार कर जब पुलिस लाइन लाया गया तो मां नूरजहां अपना चेहरा ढके हुए थी, उसकी आंखों से आंसू भी झलक रहे थे। शायद यह आंसू अपने किए पर पछतावे के नहीं बल्कि जेल जाने और पूरे परिवार की फजीहत के थे। पिता अफरोज से जब पूछा गया कि वह कैसे निर्दयी हो गया कि अपनी बेटी के हाथ पकड़कर उसे गोली मरवा दी। पहले तो वह चुप रहा, बाद में बोला कि बहुत बड़ी गलती हो गई। बता दें कि निशा का अलीगढ़ मेडिकल कालेज में उपचार चल रहा है, उससे मिलने की किसी को भी इजाजत नहीं है। पुलिस उसकी सुरक्षा में तैनात है।

रिश्तेदारियों में छिप रहे थे

प्रेमी की हत्या करने के बाद से ही लड़की के मां-बाप रिश्तेदारियों में छिपकर रह रहे थे। मलावन पुलिस उनके पीछे पड़ी थी और निरंतर रिश्तेदारियों में ही दविशें दे रही थी, कई नजदीकियों को उठा रखा था।

मामू पर घोषित होगा इनाम

निशा को गोली मारने वाले उसके मामू इशाक पर इनाम घोषित किया जाएगा, उसकी गिरफ्तारी के प्रयास किए जा रहे हैं। एसएसपी स्वप्निल ममगाईं ने बताया कि वारदात में प्रयुक्त तमंचा और मोटरसाइकिल जिस पर बैठाकर निशा को घटना स्थल पर माता-पिता और मामा लेकर आए थे को बरामद कर लिया है।

 

Posted By: Tanu Gupta

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप