आगरा, जागरण संवाददाता। आगरा शहर में रविवार को वर्ष की सबसे स्वच्छ हवा रही। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) की रिपोर्ट के अनुसार एयर क्वालिटी इंडेक्स (एक्यूआइ) 24 दर्ज किया गया, जो शनिवार के एक्यूआइ 59 से कम था। शनिवार रात हुई वर्षा के बाद हवा में घुली अति सूक्ष्म कणों व धूल कणों की मात्रा में काफी गिरावट दर्ज की गई। वायु गुणवत्ता अच्छी स्थिति में रही।शहर में सर्वाधिक स्वच्छ हवा मनोहरपुर दयालबाग में रही।

इन जगहों पर रही अच्छी हवा

संजय प्लेस, मनोहरपुर दयालबाग, सेक्टर तीन-बी आवास विकास कालोनी, शास्त्रीपुरम व शाहजहां गार्डन में वायु गुणवत्ता अच्छी स्थिति में रही। रोहता स्थित आटोमेटिक मानीटरिंग स्टेशन बंद रहने से वहां की स्थिति की जानकारी नहीं मिल सकी। संजय प्लेस में हवा में घुले अति सूक्ष्म कण, मनोहरपुर दयालबाग, शास्त्रीपुरम व शाहजहां गार्डन में ओजोन कण अौर आवास विकास कालोनी में धूल कण अधिक रहे।

ये होना चाहिए मानक

सीपीसीबी की गाइडलाइन के अनुसार हवा में घुली अति सूक्ष्म कणों की मात्रा 60 माइक्रोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर और धूल कणों की मात्रा 100 माइक्रोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर से अधिक नहीं होनी चाहिए।

देश में तीसरा सबसे स्वच्छ शहर

रविवार को आगरा शिलांग के साथ संयुक्त रूप से देश में तीसरा स्वच्छ शहर रहा। पहले नंबर पर 21 एक्यूआइ के साथ दमोह, देहरादून, दवानागेरे, मडिकेरी और दूसरे नंबर पर 23 एक्यूआइ के साथ नाहरलगुन रहा।आटोमेटिक मानीटरिंग स्टेशनों पर स्थितिस्टेशन, शुक्रवार, शनिवार, रविवारसंजय प्लेस, 30, 30, 32मनोहरपुर दयालबाग, 20, 20, 22आवास विकास कालोनी, 22, 26, 23शास्त्रीपुरम, 26, 66, 28रोहता, 132, 190, -शाहजहां गार्डन, 22, 25, 26

ये था एक दिन पहले का हाल

शहर में शनिवार को रोहता में वायु गुणवत्ता सबसे खराब रही थी। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) द्वारा जारी रिपोर्ट के अनुसार एयर क्वालिटी इंडेक्स (एक्यूआइ) 59 रहा, जो शुक्रवार के एक्यूआइ 42 से अधिक था। वायु गुणवत्ता संतोषजनक स्थिति में दर्ज की गई थी।

शहर में रोहता सबसे अधिक प्रदूषित रहा था। संजय प्लेस, मनोहरपुर दयालबाग, सेक्टर तीन-बी आवास विकास कालोनी, शाहजहां गार्डन में वायु गुणवत्ता अच्छी स्थिति में रही। शास्त्रीपुरम में वायु गुणवत्ता संतोषजनक और रोहता में मध्यम स्थिति में रही।

संजय प्लेस व रोहता में अति सूक्ष्म कण, मनोहरपुर दयालबाग, आवास विकास कालोनी व शाहजहां गार्डन में धूल कण और शास्त्रीपुरम में ओजोन कण हवा में अधिक घुले रहे। सीपीसीबी द्वारा निर्धारित गाइडलाइन के अनुसार हवा में घुली अति सूक्ष्म कणों की मात्रा 60 माइक्रोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर और धूल कणों की मात्रा 100 माइक्रोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर से अधिक नहीं होनी चाहिए। 

Edited By: Abhishek Saxena