आगरा (कुलदीप सिंह) : ताजनगरी के शूटर नवीन डागुर शूटिंग में नए कीर्तिमान बनाते जा रहे हैं। प्री नेशनल में कांस्य पदक जीतने के बाद वह राष्ट्रीय रैंकिंग में टॉप-18 खिलाड़ियों में शामिल हो गए हैं। उन्होंने अब अपने प्रदर्शन को और धार देने के लिए स्विटरलैंड से हाई टेक्नोलॉजी की गन मंगाई है। इस गन से वह अगले साल जर्मनी में होने वाली अंतरराष्ट्रीय चैंपियनशिप के लिए अभ्यास करेंगे।

शास्त्रीपुरम निवासी नवीन डागुर ने दो साल पहले शूटिंग को अपना जुनून बनाया। नवंबर में आयोजित प्री-नेशनल चैंपियनशिप में कांस्य पदक जीतने के बाद उनकी प्रतिभा से पिता वीरेन्द्र सिंह खासे प्रभावित हुए। उन्होंने नवीन के सपने को पूरा करने के लिए अपनी पूरी कमाई देने का मन बना लिया। नवीन को अभ्यास के लिए एक हाईटेक गन की जरूरत पड़ी तो वीरेन्द्र उसे मंगाने के लिए जरा भी नहीं हिचके। उन्होंने स्विजरलैंड की कंपनी को गन का ऑर्डर दे दिया। स्विटजरलैंड की ग्रूनिग एल्मिगर कंपनी की एफटी-300 गन में वो तमाम खूबियां मौजूद हैं जो एक निशानेबाज को अभ्यास में मदद कर सकती है। नवीन ने बताया कि भारत में इतनी उच्च तकनीक की बंदूकों का निर्माण नहीं किया जाता है।

घर में बना डाली शूटिंग रेंज

शूटिंग में नवीन की ललक को देखते हुए वीरेन्द्र सिंह ने घर में ही शूटिंग रेंज बना डाली। 10 मीटर की इस रेंज में एयरगन से अभ्यास किया जाता है। इस रेंज में नवीन नियमित रूप से अभ्यास करते हैं।

गन में क्या है खास

यह बंदूक टच स्क्रीन मोबाइल की तरह उंगली के स्पर्श मात्र से चलती है। हाई टेक्नोलॉजी की इस गन में बैटरी भी लगी है। इसमें शूटिंग के साथ ड्राइव फाय¨रग की सुविधा भी मौजूद है। इससे खिलाड़ी कारतूस के शैल से अभ्यास कर सकते हैं। पूरी तरह अलॉय मेटल से बनी इस गन को हर प्रकार से मौसम के अनुरूप क्वालिटी चैक में पास कर तैयार किया गया है। इसके सेफ्टी फीचर्स भारतीय गन के मुकाबले काफी बेहतर हैं।

जर्मनी के तेल से होती है मालिश

इस गन का रखरखाव भी आसान नहीं है। नवीन ने बताया कि अभ्यास के दौरान गन की नियमित रूप से मालिश की जाती है। मालिश के लिए जर्मनी से खास तौर पर तेल मंगाया गया है। इस तेल से बंदूक क्षमता स्थित रहती है।

By Jagran