आगरा, जागरण संवाददाता। तहसील सदर में सोमवार को रजिस्ट्री के लिए पहुंचे लोगों को झटका लगा। वकीलों और दस्तावेज लेखकों ने कार्य करने से इन्कार कर दिया। इसके चलते पांच उप निबंधक कार्यालयों में बैनामे नहीं हो सके। तीस अप्रैल तक कार्यालयों में न तो बैनामे होंगे और न ही न्यायिक कार्य होगा।

सप्ताह भर के भीतर तीन अधिवक्ताओं की कोविड से मौत हो चुकी है। सोमवार को तहसील बार एसोसिएशन के पदाधिकारियों ने दो मिनट का मौन रखा फिर तीस अप्रैल तक कार्य न करने का निर्णय लिया। पदाधिकारियों ने सहायक महानिरीक्षक, निबंधन सुनील कुमार सिंह को ज्ञापन सौंपा। एसोसिएशन महासचिव लाल बहादुर ने बताया कि कोविड महामारी तेजी से बढ़ रही है। ऐसे में स्वेच्छा से अधिवक्ता और दस्तावेज लेखक कार्य नहीं करेंगे। सतीश कुमार, हरीओम तोमर, आशीष, विजय, वीरेंद्र सिंह, जगदीश, राजेंद्र, मदन रावत मौजूद रहे। कोर्ट में भी नहीं होगा कार्य : एसडीएम, तहसीलदार सदर और नायब तहसीलदार सदर की कोर्ट में भी कार्य तीस अप्रैल तक नहीं होगा। करोड़ों रुपये का हुआ नुकसान : तहसील सदर के पांच उप निबंधक कार्यालयों में हर दिन 100 से 150 के आसपास बैनामे होते हैं। इससे करोड़ों रुपये के राजस्व की प्राप्ति होती है। बैनामा न होने से करोड़ों रुपये के राजस्व का नुकसान होगा। नियमों का हो रहा पालन

सहायक महानिरीक्षक, निबंधन सुनील कुमार का कहना है कि महानिरीक्षक के आदेश पर आनलाइन अप्वाइंटमेंट के बाद ही बैनामे हो रहे हैं। दो गज की शारीरिक दूरी का पालन कराया जा रहा है। उन्होंने बताया कि तहसील सदर के अलावा पांच तहसीलों में एक-एक उप निबंधक कार्यालय हैं। जहां पर बैनामे होंगे।