जागरण संवाददाता, आगरा: पुलिस कास्टेबल भर्ती परीक्षा की दोनों पालियों में कथित तौर पर एक जैसा पेपर बाटने का मुद्दा गर्माता जा रहा है। शुक्रवार को परीक्षा निरस्त करने की माग को लेकर अभ्यर्थी मिढ़ाकुर स्थित पानी की टंकी पर चढ़ गए। टंकी पर चढ़े युवकों ने शोले फिल्म के वीरू की तरह छह घटे तक जमकर हंगामा काटा।

यूपी में सोमवार और मंगलवार को पुलिस कास्टेबल भर्ती परीक्षा हुई थी। अलीगढ़ और एटा में दोनों पालियों में कथित तौर पर एक जैसा पेपर बाटने का मामला सामने आया था। इस पर अभ्यर्थियों में रोष व्याप्त हो गया। जगह-जगह तमाम जिलों में प्रदर्शन हुए। परीक्षा को निरस्त करने की माग को लेकर सहाई गाव के हेमंत, दीपक, मनोज, रिपुदमन, अजित सोलंकी, पोपेंद्र सिंह, हरिओम और प्रशांत मिढ़ाकुर आ गए। वे दोपहर करीब 12 बजे पानी की टंकी पर चढ़ गए। इसके बाद परीक्षा निरस्त करने के लिए नारेबाजी करने लगे। शोर सुनकर आसपास के लोग जुट गए। जानकारी पर एसडीएम सदर रजनीश मिश्र और सीओ अछनेरा नम्रिता श्रीवास्तव पहुंच गई। उन्होंने अभ्यर्थियों को समझाने का प्रयास किया, लेकिन कोई भी मानने को तैयार नहीं हुआ। वे जिलाधिकारी को मौके पर बुलाने की माग पर अड़ गए। सूचना मिलते ही सासद चौधरी बाबूलाल, विधायक चौधरी उदयभान, ब्लॉक प्रमुख यशपाल राणा भी आ गए। सासद ने उन्हें आश्वासन दिया कि शासन तक मुद्दा उठाया जाएगा। वे न्याय दिलाने के हरसंभव प्रयास करेंगे। इसके बाद ही अभ्यर्थी नीचे उतरे।

परीक्षा की पारदर्शिता पर उठे थे सवाल: परीक्षा में जिस तरह से एक जैसे पेपर दोनों ही पाली में जारी कर दिए गए, उससे इसकी पारदर्शिता पर सवाल उठे थे।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस