आगरा, जागरण संवाददाता। ताजनगरी में गुरुवार सुबह से ही मौसम सुहाना है। काले बादलाें के बीच ठंडी हवा के झोंके आनंद दे रहे हैं। वहीं बीच बीच में पड़ रही हल्की फुहारें भी माहौल को खुशनुमा बना रही है। अब तापमान में गिरावट का दौर शुरू हो गया है। दरअसल बंगाल की खाड़ी में बने कम वायु दाब क्षेत्र के चलते पूरे उत्तर प्रदेश में मौसम का मिजाज बदल चुका है। आगरा में आगामी तीन दिन तक बारिश होते रहने का अनुमान है।

पूरे उत्तर प्रदेश में बदला मिजाज

मौसम विभाग के निदेशक डा. जेपी गुप्ता ने बताया कि बंगाल की खाड़ी में दो सप्ताह पूर्व कम वायु दाब क्षेत्र बनना शुरू हुआ था। अब यह क्षेत्र पूरी तरह से बन चुका है। इसका असर मौसम पर पड़ना शुरू हो गया है। आगरा सहित पश्चिम यूपी के सभी जिलों में वर्षा होगी। उन्होंने बताया कि दस अक्टूबर तक रुक-रुक कर वर्षा होगी। उधर, गुरुवार सुबह से बादल छाए हैं। इससे न्यूनतम तापमान घटकर 22.1 डिग्री सेल्सियस रह गया है। वहीं बुधवार को अधिकतम तापमान सामान्य से दो डिग्री कम 33.4 डिग्री दर्ज हुआ था। बुधवार को अपेक्षाकृत उमस ज्यादा थी, इसके चलते शाम के समय कुछ इलाकाें में जोरदार बारिश भी हुई। गुरुवार को भी दिनभर बारिश होने के आसार हैं।

यह रहेगा तापमान (डिग्री से. में है)

तारीख, अधिकतम तापमान, न्यूनतम तापमान

- छह अक्टूबर, 32, 23

- सात अक्टूबर, 30, 21

- आठ अक्टूबर, 28, 21

- नौ अक्टूबर, 30, 22

- दस अक्टूबर, 30, 23

सामान्य से ज्यादा बारिश

सामान्यतौर पर सितंबर में आगरा में 100 से 150 एमएम वर्षा होती है लेकिन इस साल 150 एमएम से अधिक वर्षा हुई है। इसी के चलते गर्मी और उमस का प्रभाव कम है। मौसम विभाग के आंकड़ों के अनुसार सितंबर तक आगरा में 529.2 एमएम वर्षा हुई है। यह सामान्य से एक प्रतिशत अधिक है। आगरा में 31 अगस्त तक 399.9 एमएम वर्षा हुई थी, जो सामान्य से आठ प्रतिशत कम थी। आगरा और अलीगढ़ मंडल में आगरा, फिरोजाबाद और एटा में ही सामान्य से ही अधिक वर्षा हुई है। मथुरा, मैनपुरी, अलीगढ़, कासगंज और हाथरस में सामान्य से कम वर्षा हुई है। अक्टूबर में भी बारिश का दौर बना हुआ है।

Edited By: Prateek Gupta

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट