आगरा, जागरण संवाददाता। डाक्टर भीमराव आंबेडकर विवि के पेपर लीक मामले में पुलिस ने हरिचरण लाल महाविद्यालय के प्रधानाचार्य अनेक सिंह को गिरफ्तार किया है। आरोपित ने पुलिस को पूछताछ में बताया कि उसने प्रबंधन समिति के कहने पर पेपर लीक किया था। आरोपित प्रधानाचार्य ने बताया कि पेपर लीक मामले में उसने कई लोगों के नाम पुलिस को बताए हैं। जिसमें एक कोचिंग संचालक भी शामिल है, जिसकी आगरा कालेज में गहरी पैठ है।

एसपी सिटी विकास कुमार ने बताया कि 11 मई को आगरा कालेेज में द्वितीय पाली की परीक्षा में बीएससी तृतीय वर्ष का जंतु विज्ञान का द्वितीय प्रश्न पत्र एवं गणित द्वितीय प्रश्न पत्र लीक हो गया था। प्रश्न पत्र छात्रों के मोबाइल में वाट्स एप पर भेजा गया था। इसी तरह 15 मई को रसायन विज्ञान का प्रथम प्रश्न पत्र तृतीय पाली की परीक्षा शुरू होने से पहले छात्रों के मोबाइल में आ गया था।

पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर मामले की छानबीन शुरू की। साक्ष्यों के आधार पर बुधवार को लोहामंडी पुलिस ने हरिचरणलाल महाविद्यालय के प्रधानाचार्य अनेक सिंह को गिरफ्तार कर लिया। प्रधानाचार्या ने पुलिस को बताया कि वह महाविद्यालय के मालिक अशोक द्वारा अपने कालेज के अलावा अन्य कालेजों में पेपर मंगाया व भेजा जाता है। इस संबंध में प्रबंधन समिति के कहने पर उसने पेपर लीक किया था। प्रबंधन समिति को इसके लिए छात्रों से तभी पैसा ले लिया गया था। जिसमें मुझे भी हिस्सा मिलता था।

आरोपित प्रधानाचार्य अनेक सिह ने पुलिस को बताया कि वह पहले से पेपर की सील खोलकर अपने मोबाइल से उसकी फोटो खींच लेता था। जिसे अपने कालेज के शिक्षक रवि शंकर को भेजता है। रवि शंकर का आगरा कालेज में आना जाना है। कालेज के लोगों में उसकी अच्छी पैठ है।वह कालेज के कार्यों में भी दखल रखता है। उसके द्वारा रुपये लेकर पेपर का फाेटो वाट्सएप आदि के माध्यम से छात्रों में वितरित किया जाता है। जिसके बाद वह अपने मोबाइल से फोटो एवं वाट्सएप की सामग्री डिलीट कर देते हैं।

एसपी सिटी विकास कुमार ने बताया कि आरोपित अनेक सिंह ने बताया कि वह कालेज के शिक्षकों से लीक प्रश्न पत्र हल कराके छात्रों को उपलब्ध कराता था। आरोपित प्रधानाचार्य अछनेरा के गांव झारौठा का रहने वाला है। आरोपित को अदालत में प्रस्तुत किया गया, जहां से उसे जेल भेज दिया गया। 

Edited By: Prateek Gupta