आगरा: गांव मेहरा के पैतृक मकान में पांच वर्षीय अनुष्का और साढ़े तीन साल के देवांश को बड़ी मुश्किल से रोते-रोते नींद आई है। उसने भाई को उसी तरह अपने पास लिटाया, जैसे कल तक मां सुलाया करती थी। कमरे में सन्नाटा पसरा है, परिवार के सदस्य खामोश हैं, कहीं उनकी आवाज सुन बच्चे नींद से चौंक न पड़ें। उठकर मम्मी-पापा को याद करके रोना न शुरू कर दें। नो एंट्री में आए ट्रक ने उनके सिर से मां-बाप का साया छीन लिया।

फतेहाबाद के गांव मेहरा स्यारा के रहने वाले मदन मोहन शर्मा उनकी पत्नी राधा राजेश्वर मंदिर के पास रश्मि विहार में रामशंकर शर्मा के यहां एक साल से किराएदार थे। वह मंगलवार रात पौने नौ बजे बच्चों के साथ घूमने निकले थे। पापा ने पांच साल की लाडली अनुष्का को गोदी में उठाया तो घूमने की खुशी में उनके गले से लिपट गई थी। यह देख देवांश भी मां की गोद में आ गया। उन्हें नहीं पता था कि अंतिम बार गोद में आए हैं।

ट्रक के स्कूटी में टक्कर मारते ही राधा को खतरे का आभास हो गया। बेटी को धक्का देकर सड़क के किनारे गिरा दिया। देवांश के पैर में चोट है। राधा ने मौके पर दम तोड़ दिया। दोनों बच्चे सड़क पर मां के शव से लिपट रोने लगे।

फोन करके पति ने दम तोड़ा :

आंखों के सामने पत्नी की मौत देख पति ने मोबाइल पर ससुर को हादसे की सूचना दी। इसके बाद उसके सीने में तेज दर्द उठा, लोग अस्पताल लेकर भागे। उसने अस्पताल के गेट पर ही दम तोड़ दिया।

इसी साल स्कूल भेजे थे बच्चे:

दंपती ने अनुष्का का इसी साल सेंट क्लेयर्स में एलकेजी में प्रवेश कराया था। जबकि देवांश को घर के सामने स्थित सेंट पैट्रिक्स प्ले ग्रुप में भेजना शुरू किया था।

बेटे ने दिया चिता को दाग : दंपती का पोस्टमार्टम सुबह सात बजे हुआ। पैतृक गांव में दोनों की चिता को देवांश ने दाग दिया।

Posted By: Jagran