आगरा, जागरण संवाददाता। कभी पेट्रोल के मुकाबले कहीं ज्यादा सस्ती रहने वाली सीएनजी के दिन भी फिर गए हैं। अब ये पेट्रोल से महंगी है। जिन्हाेंने सस्ते के चक्कर में सीएनजी की किट लगवायी थी, वे पछता रहे हैं। दूसरी तरफ सीएनजी के दाम बढ़ने का सीधा असर बाजार पर है। दरअसल माल भाड़ा बढ़ जाने से ज्यादातर वस्तुओं के दाम बढ़े हैं। यानि सब्जियाें से लेकर किराना तक के सामान पर अंतर नजर आ रहा है। वहीं पेट्रोल डीजल के मामले में अभी राहत बरकरार है।

आगरा में सीएनजी वाहन चालक परेशान हैं। एक तो किट लगवायी, उसके बाद आरटीओ से अप्रूव कराया और अब लाइन में लगकर सीएनजी लेने पर ये पेट्रोल से ज्यादा महंगी पड़ रही है। दरअसल काराें से ज्यादा लोडिंग वाहन और स्कूली वैनाें में सीएनजी किट लगी है। सीएनजी का ताजा हाल ये है कि आगरा में अब ये पेट्रोल के मुकाबले एक रुपये महंगी पड़ रही है। इसी के चलते लोडिंग वाहनाें के स्वामियाें ने भाड़ा बढ़ा दिया है। इस बढ़े हुए भाड़े का असर अप्रत्यक्ष रूप से आम जनता पर पड़ा है। फल−सब्जी से लेकर किराना तक की वस्तुओं के दाम बढ़ गए हैं। वहीं पेट्रोल और डीजल अभी भी स्थिर हैं।

रविवार को पेट्रोल और डीजल के दामाें में वृद्धि नहीं की गई है। इस समय चर्चा यही है कि तेल कंपनियां अपने घाटे की पूर्ति करने के लिए कभी दाम बढ़ा सकती हैं। फिलहाल तो आगरा में 22 मई के बाद से पेट्रोल और डीजल के दाम स्थिर हैं, जबकि सीएनजी के दाम हर महीने बढ़े हैं। रविवार सुबह सीएनजी का भाव आगरा में 97.25 रुपये प्रति किलोग्राम हो चुका है। वहीं इस समय आगरा में सरकारी कंपनियाें के पंप पर पेट्रोल 96.35 रुपये प्रति लीटर और डीजल 89.52 रुपये प्रति लीटर बिक रहा है। पेट्रोल की तुलना में अब सीएनजी एक रुपये महंगी है।

गौरतलब है कि आगरा में 22 मई से पहले 1ृ05 रुपये में एक लीटर पेट्रोल आ रहा था। 22 मई को एक्साइज ड्यूटी में कटौती कर केंद्र सरकार ने कुछ राहत दी थी। तब से लेकर अब तक तेल कंपनियों ने पेट्रोल और डीजल के दाम में बढ़ोत्तरी नहीं की है। एक्साइज ड्यूटी घटने के बाद आगरा में पेट्रोल की कीमत में ₹9.50 और डीजल सात रुपये की कमी आई थी।

वहीं निजी कंपनियाें की बात करें तो एस्सार और रिलायंस, दोनों ही दाम बढ़ा चुकी हैं। कालिंदी विहार स्थित एस्सार पंप पर पेट्रोल 101.61 रुपये में मिल रहा है। वहीं कुबेरपुर पर स्थित रिलायंस पंप पर पेट्रोल 103.23 रुपये और डीजल 94.30 रुपये हैं। दाम बढ़ने के बाद निजी कंपनियाें के पेट्रोल पंपाें की बिक्री पर भी असर देखने को मिल रहा है।

ऐसे बढ़े दाम (रुपयों में)

तिथि पेट्रोल डीजल

तीन नवंबर 107.12, 99.04

चार नवंबर 101.22, 87.22

पांच नवंबर 95.43, 86.93

छह नवंबर 95.02, 86.56

22 मार्च 95.82, 87.34

23 मार्च 96.65, 88.17

25 मार्च 97.45, 88.97

26 मार्च 98.20, 89.72

27 मार्च 98.74, 90.22

28 मार्च 99.04, 90.67

29 मार्च 99.84, 91.37

30 मार्च 100.61, 92.15

31 मार्च 101.43, 92.98

02 अप्रैल 102.23, 93.78

03 अप्रैल 103.03, 94.52

04 अप्रैल 103.43, 94.98

05 अप्रैल 104.23, 95.78

06 अप्रैल 105.03, 96.58

21 मई  105.03, 96.58

22 मई  96.35, 89.52

14 अगस्त 96.35, 89.52

यहां चेक करें- https://iocl.com/Products/PetrolDieselPrices.aspx

रोज सुबह छह बजे बदलती है कीमत

गौरतलब है कि प्रतिदिन सुबह छह बजे पेट्रोल और डीजल की कीमतों में बदलाव होता है। सुबह छह बजे से ही नई दरें लागू हो जाती हैं। पेट्रोल व डीजल के दाम में एक्साइज ड्यूटी, डीलर कमीशन और अन्य चीजें जोड़ने के बाद इसका दाम लगभग दोगुना हो जाता है। इन्हीं मानकों के आधार पर पेट्रोल रेट और डीजल रेट रोज तय करने का काम तेल कंपनियां करती हैं। डीलर पेट्रोल पंप चलाने वाले लोग हैं। वे खुद को खुदरा कीमतों पर उपभोक्ताओं के अंत में करों और अपने स्वयं के मार्जिन जोड़ने के बाद पेट्रोल बेचते हैं। पेट्रोल रेट और डीजल रेट में यह कॉस्ट भी जुड़ती है। 

Edited By: Prateek Gupta