जागरण संवाददाता, आगरा: बुधवार को एक बार फिर से आंधी-ओलों ने जनजीवन बुरी तरह प्रभावित कर दिया। ओलों की मार पांच से आठ मिनट और बारिश की 15 से 20 मिनट तक रही। हालांकि आंधी एक घंटे तक चली। इसके बड़ी संख्या में पेड़ और बिजली के पोल टूट गए। होर्डिग्स और टिन शेड भी उड़ गए। सबसे अधिक नुकसान एत्मादपुर तहसील में हुआ।

मौसम विभाग ने बुधवार को आंधी की आशंका जताई थी। प्रशासन सतर्क था। वहीं सुबह से शाम तक दशहत में लोग रहे। शाम 4.45 बजे बादल घिर आए और पांच बजे आंधी चलने लगी। खंदौली, एत्मादपुर में पहले ओले गिरे फिर आंधी चली। शहरी क्षेत्र में भी कुछ जगह यही हुआ।

65 किमी प्रतिघंटे की रफ्तार से एक घंटे तक आंधी चली। करीब 20 मिनट तक दृश्यता शून्य रही। मौसम विभाग के निदेशक डॉ. जेपी गुप्ता ने बताया कि आगरा-राजस्थान के बार्डर पर कम वायु दाब क्षेत्र बनने के कारण आगरा में आंधी का प्रकोप अधिक देर तक रहा है। गुरुवार व शुक्रवार को तेज हवा चलेगी। वहीं 12 से 16 मई के बीच फिर आंधी आने के आसार हैं। उधर, आंधी से सबसे अधिक नुकसान एत्मादपुर तहसील में हुआ है। फिर तहसील सदर में और बाकी की चार तहसीलें शामिल हैं। एडीएम वित्त एवं राजस्व राकेश कुमार ने बताया कि सभी एसडीएम से नुकसान की रिपोर्ट मांगी गई है।

तीसरी बार बुधवार को आई आंधी

11 अप्रैल, दो मई और अब नौ मई। यह महज संयोग ही है कि अब तक जो भी तूफान या फिर आंधी आई है। वह बुधवार को ही आई है। 11 अप्रैल को 130 किमी प्रति घंटा की रफ्तार से पांच मिनट के लिए, दो मई को 132 किमी प्रति घंटा की रफ्तार से 15 मिनट के लिए तूफान आया था। नौ मई को 65 किमी प्रति घंटा की रफ्तार से एक घंटा तक आंधी चली। जर्जर घरों से बाहर निकल आए लोग

नार्मल कंपाउंड, जज कंपाउंड, जल संस्थान के दो दर्जन से अधिक क्वार्टर जर्जर हैं। आधी आते ही कर्मचारी परिवार के साथ बाहर निकल आए। जल्द पहुंची प्रशासनिक अफसरों की टीम

कमिश्नर के. राम मोहन राव और डीएम गौरव दयाल आंधी से हुए नुकसान की जानकारी लेते रहे। वाट्सएप पर अलग से अफसरों ने ग्रुप बना दिया। इसमें पल-पल की जानकारी दी गई। घायलों को तत्काल मदद पहुंचाई गई। मृतक के परिजनों को चार लाख

बुधवार को आंधी से मारे गए मृतकों के परिजनों को चार-चार लाख रुपये मिलेंगे। मकान क्षतिग्रस्त होने पर 5200 रुपये दिए जाएंगे। घायलों को 4300 से 12300 रुपये तक मिलेंगे।

39 डिग्री से. पर पहुंचा दिन का तापमान

बुधवार को दिन के तापमान में 1.4 डिग्री से. की बढ़ोतरी हुई और यह 39 डिग्री से. पर पहुंच गया। वहीं रात के तापमान में ज्यादा बदलाव नहीं आया। यह 26 डिग्री से. रहा। - घायलों की मदद में किसी तरीके की लापरवाही न बरतने के आदेश दिए गए हैं। अगर बिजली नहीं है तो गांवों में टैंकरों से पानी की आपूर्ति के लिए कहा गया है।

के. राम मोहन राव, मंडलायुक्त

आंधी के समय खुले में बैठे लोग

शमशाबाद: आधी-बारिश के समय लोग घर के बजाय परिवार के साथ आंगन या खुले स्थानों पर बैठे दिखे। एक महिला ने बताया कि पुराना मकान है। इसलिए वह बच्चों को लेकर आंगन में बैठी हैं। एसडीएम फतेहाबाद प्रथमेश कुमार और निरीक्षक शमसाबाद अजय कुमार ने लोगों से कहा है कि वे पेड़, पोल, साइनेज से दूर रहें। कच्चे मकान में से बाहर आ जाएं। दो मकानों की दीवार गिरी

बाह: बुधवार शाम छह बजे आई आंधी में कचौराघाट गांव में दुकानदार विशेश्वर का टिन शेड, बड़ा गांव के मोहित और अतर सिंह के घर की चहारदीवारी गिर गई है। पहले तूफान में मकान का आधा भाग गिर गया था।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप