आगरा : सार्वजनिक स्थल पर पान या फिर गुटखा की पीक मारना महंगा पड़ेगा। पीक पर सौ और खुले में पेशाब पर पांच सौ रुपये का जुर्माना लगेगा। वहीं अगर नाली में कूड़ा फेंकते हुए पकड़े गए तो दो सौ रुपये का जुर्माना अदा करना पड़ेगा।

स्वच्छता सर्वेक्षण-2019 में पहली बार पान की पीक, खुले में पेशाब, नाली में कूड़ा फेंकने के बिंदुओं को शामिल किया गया है। इस साल सर्वे 15 दिसंबर के आसपास होगा, जिसे देखते हुए बुधवार को नगर निगम कार्यकारिणी की बैठक बुलाई गई है। स्मार्ट सिटी कार्यालय में बैठक दोपहर डेढ़ बजे से शुरू होगी। पर्यावरण अभियंता राजीव राठी ने बताया कि आवारा पशुओं को छुड़वाना अब और भी महंगा होगा। अभी तक 2500 रुपये और 100 रुपये प्रति डाइट का जुर्माना लगता था, जिसे बढ़ाकर अब पांच हजार रुपये प्रति पशु किया जा सकता है। निगरानी के लिए विशेष टीम गठित की गई है।

डायपर फेंकने पर पांच सौ का जुर्माना

कार्यवाहक नगरायुक्त विजय कुमार ने बताया कि सड़क पर डायपर या सेनेटरी नैपकिन फेंकने पर पांच सौ रुपये का जुर्माना लगाया जाएगा।

नगर निगम की इस नीति से उम्मीद की जा सकती है कि लोग रहन-सहन का तरीका भी सीख जाएंगे। अन्यथा लोगों का राहत चलते निकलना दूभर हो गया है। कोई भी कहीं भी पीक मार देता है, चाहे किसी के भी ऊपर जा कर गिरे।

यह है जुर्माना की राशि

- भवन स्वामियों द्वारा सड़क पर कूड़ा फेंकने पर, 100 रुपये प्रतिदिन

- दुकानदारों द्वारा सड़क पर कूड़ा फेंकने पर, 250 रुपये

- रेस्टोरेंट संचालकों द्वारा सड़क पर कूड़ा फेंकने पर, 400 रुपये

- होटल संचालकों द्वारा सड़क पर कूड़ा फेंकने पर, 500 रुपये

- औद्योगिक प्रतिष्ठानों द्वारा एक हजार रुपये प्रतिदिन।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप