आगरा, जागरण संवाददाता। मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ कह रहे हैं कि यूपी में लोग आए उनकी जिम्‍मेदारी हमारी। अपने इस कथन को पूर्ण करने के लिए उन्‍होंने रविवार को कई अहम फैसले लिये। प्रदेश के जिला प्रशासन को प्रवासी लोगों की मदद का हर संभव प्रयास करने का निर्देश दिया। बसें चलाईं, भोजन उपलब्‍ध कराया लेकिन फिर भी सबकुछ नाकाफी सा होता दिख रहा है। लॉकडाउन के बीच सड़कों पर उमड़ा सैलाब, आने वाले खतरे का संशय तो जता ही रहा है साथ ही बच्‍चे, बूढ़े, महिलाएं, गर्भवति स्त्रियां हर उम्र वर्ग के लोगों की बदहाली दिल को दहला दे रही है। फोटो जर्नलिस्‍ट शाश्‍वत मिश्रा के ये फोटो विकट परिस्थितियों की झलक दिखा रहे हैं।

कोरोना वायरस की चैन तोड़ने के लिए पूरा देश प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आदेश से लॉकडाउन है लेकिन सड़कों के मौजूदा हालात लॉकडाउन के उद्देश्‍य को धूमिल कर रहे हैं। शारीरिक दूरी की बात ट्रक और बसों में ठूंस कर भरकर जा रहे लोगों को देखकर शब्‍द भर लग रही है। दिल्‍ली, हरियाणा, राजस्‍थान और भी जानें कितने ही राज्‍यों में बसे प्रवासी अपने घर कूच कर रहे हैं। हजारों की संख्‍या में लोग सड़कों पर हैं। कोरोना वायरस इसी मौके का ही तो इंतजार करता है जब उसे भीड़़ इकठ्ठी मिले और वो कब अपने मंसूबे पूरे कर ले।  

 

आईएसबीटी पर बस में सवार होने के लिए एक दूसरे को ढक्‍का देते लोग।

 

आइएसबीटी पर व्‍यवस्‍थाओं का निरीक्षण करने पहुंचे कमिश्‍नर अनिल कुमार और आइजी ए सतीश गणेश।

 

भगवान टॉकीज फ्लाईओवर पर ट्रक में चढ़ते लोग। 

 यही हालात हाईवे पर भी दिखाई दिए। दिल्ली-हरियाणा से ट्रक में सवार होकर आगरा पहुंचे लोग। 

चलो जल्‍दी करो वरना बस छूट जाएगी। अपने परिवार को बस में जल्‍दी सवार होने के लिए कहता युवक। 

आइएसबीटी की यह तस्‍वीर स्थिति की विकटता स्‍वत: की दर्शा रही है। 

बस नहीं में जगह नहीं मिल पा रही तो लोग जो वाहन मिल रहा है उसी में सवार हो जा रहे हैं। नेशनल हाईवे पर टेंपो में सवार होने के लिए हो रही मारामारी। 

कैसे भी हो पहुंचना तो घर। बस में सवार होते लोग। 

हाइवे पर व्‍यवस्‍थाओं की जानकारी लेते एसएसपी बबलू कुमार। 

बस में सीट नहीं मिली तो बस की छत पर ही सवार होकर जाते लोग। 

ईदगाह बस स्‍टैंड के आसपास बैठे प्रवासियों को मददके लिए टूटी धर्म और जातियों की दीवार। सुल्‍तान पुरा, कछपुरा और बाग नानकचंद में लोग खाना और पानी बांट रहे हैं।

 

टीकमगढ़ निवासी गर्भवती रानी ने सड़क पर ही बेटी को जन्‍म दिया। दिल्‍ली से पति घनश्‍याम और स्‍वजनों के साथ पैदल चली रानी को फरीदाबाद में प्रसव पीड़ा हुई। साथ चल रही महिलाओं ने साडि़यों से ओट करके उसका प्रसव कराया। इसके बाद सफर फिर जारी हो गया। रविवार दोपहर रानी आगरा पहुंची।  

ईदगाह बस स्‍टैंड पर पहुंचे प्रवासी। 

Posted By: Tanu Gupta

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस