आगरा, जागरण संवाददाता। सर्दी बढ़ने के साथ ही ताजनगरी की आबोहवा जहरीली होती जा रही है। शनिवार को देश के सबसे प्रदूषित पांच शहरों में आगरा शामिल रहा। वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआइ) 378 रिकॉर्ड किया गया।

बीते एक पखवाड़े से शहर में वायु प्रदूषण बढ़ता जा रहा है। हवा दिन-ब-दिन जहरीली होती जा रही है। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने 24 घंटे का औसत एक्यूआइ जारी किया है। इसमें आगरा में एक्यूआइ का स्तर 24 घंटे में ही काफी बढ़ गया। शुक्रवार को जारी आंकड़ों में एक्यूआइ का स्तर 352 रिकॉर्ड किया गया था। जारी आंकड़ों में आगरा देश के पांच सबसे प्रदूषित शहरों में शामिल रहा। इसमें भी पीएम 2.5 का स्तर काफी ज्यादा रहा। ये स्थिति सेहत के लिए सबसे अधिक खतरनाक है। एक्यूआइ का सामान्य स्तर पचास होना चाहिए। हवा में सूक्ष्म कणों की अधिकता ने मुश्किल खड़ी कर दी है। मरीजों को सांस लेने में दिक्कत होने लगी है। एक्यूआइ बढ़ने का असर ये रहा कि शनिवार सुबह फिजां में धुंध सी छाई रही। दोपहर में मौसम कुछ साफ रहा लेकिन शाम होते-होते धुंध फिर छाने लगी। पर्यावरणविद् उमेश शर्मा कहते हैं कि जैसे-जैसे सर्दी बढ़ेगी, वायु प्रदूषण का स्तर भी बढ़ेगा। अभी भी स्थिति बेहद खतरनाक है, आगे हालात और भी खराब होंगे। ऐसे में सावधानी बरतने की जरूरत है। सर्द मौसम में दबाव के कारण धूल के कण ऊपर नहीं जा पाते और वह नीचे ही तैरते रहते हैं, इससे सांस लेने में दिक्कत आती है। शनिवार को जारी एक्यूआइ के आंकड़े

पटना 406

मुजफ्फरपुर 405

कोलकाता 391

नोएडा 379

आगरा 378

Posted By: Jagran