आगरा: देश में पेट्रोल-डीजल के बढ़ते दामों की आंच अब रसोईघर तक आ पहुंची है। आम आदमी के घर का बजट पूरी तरह गड़बड़ा गया है। तेल की कीमत बढ़ने से सब्जियों से लेकर फल और दालों के दामों में तेजी आई है। घरेलू सिलेंडर भी महंगा हो गया है। घर का बजट बनाने के लिए सब्जियां घरों में दवे पांव आ रही हैं। बिक्री नहीं होने से खुदरा सब्जी विक्रेता परेशान हैं। थोक व्यापार प्रभावित हो रहा है। ट्रांसपोर्ट बाजार में ट्रकों के पहिए थम गए हैं। यदि यह कहें कि रसोई ने पूरे बाजार को हिला कर रख दिया है तो अतिश्योक्ति न होगी। महंगाई की मार धीरे-धीरे रसोईघर से निकलकर अब किसानों तक भी पहुंच गई है। 40 रुपये प्रतिकिलो से कम नहीं हरी सब्जियां: बाजार में इन दिनों कोई भी हरी सब्जी 40 रुपये प्रतिकिलो से कम नहीं है। कई सब्जियां 80 रुपये किलो तक जा पहुंची हैं। आलू भी 20 से 40 रुपये किलो बिक रहा है। प्याज भी 20 रुपये किलो है। अब दामों पर अंकुश तो लगाया नहीं जा सकता। इसलिए गृहिणियों ने खरीदारी में हाथ तंग कर लिया है। महंगाई के चलते सब्जी ही नहीं खरीदी जा रही तो फल खरीदने के बारे में सोचना दूर की बात है। फलों के दाम भी कम नहीं हैं। गरीब को दाल भी नसीब नहीं : अगर बात करें कि गरीब दाल-रोटी खाकर काम चला सकता है। तो यह भी आसान नहीं है। दाल के दाम भी आसमान छू रहे हैं। चने की दाल पर 8 रुपये बढ़ गए हैं। अन्य दालों में भी 6 से 8 रुपये तक तेजी आई है। दालों के भाव 55 से 75 रुपये तक चल रहे हैं। खुदरा मंडी में सब्जियों के दाम प्रति किलो

लौकी- 40 से 60

टिंडे - 40 से 50

भिंडी - 40 से 50

तोरई - 50 से 60

बैगन - 40 से 50

शिमला मिर्च - 60 से 80

करेला - 60 से 70

फूल गोभी - 80 से 90

परमल - 60 से 70

लोबिया की फली - 50 से 60

अरबी - 40 से 50

आलू हलद्वानी - 30 से 40

आलू लखनऊ - 25 से 30

आलू चिप्सोना - 20 से 25

टमाटर - 20 से 25

दालों के भाव रुपये प्रति किलो

मूंग दाल धोबा - 60 से 70

मूंग छिलका - 70 से 75

उड़द काली - 60 से 70

उड़द सफेद - 65 से 75

मसूर लाल - 55 से 60

मसूर काली - 50 से 55

मूंग साबुत - 65 से 70

लोबिया - 70 से 75

सोयाबीन - 65 से 70

चना दाल - 60 रुपये किलो

फलों के दाम रुपये प्रति किलो

सेव - 80 से 100

अनार - 60 से 80

पपीता - 30 से 40

नख - 60 से 80

संतरा - 60 से 80

केले - 25 से 30

पाइनेपल - 40 से 50

नारियल - 30 से 40

Posted By: Jagran